×

बेग़म अख्तर का 103वां जन्मदिन मना रहा है गूगल, डूडल के जरिए दी श्रद्धांजलि

aman

amanBy aman

Published on 7 Oct 2017 1:57 AM GMT

बेग़म अख्तर का 103वां जन्मदिन मना रहा है गूगल, डूडल के जरिए दी श्रद्धांजलि
X
बेग़म अख्तर का 103वां जन्मदिन मना रहा है गूगल, डूडल के जरिए दी श्रद्धांजलि
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: 'ए मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया' हो या 'हमरी अटरिया पे आजा रे सांवरिया' इस ठुमरी को गाया है दिलकश आवाज की मल्लिका बेग़म अख्तर ने। आज उनकी 103वीं सालगिरह है। सर्च इंजन गूगल ने डूडल के जरिए उन्हें श्रद्धांजलि दी है। इस डूडल में बेग़म अख्तर अपने वाद्य यंत्र के साथ हैं। सामने कुछ लोग सुन रहे हैं और अगल-बगल समां जल रही है। साथ ही कुछ गुलाब के फूल भी दिखाई दे रहे हैं।

बता दें, कि बेग़म अख्तर के नाम से प्रसिद्ध, अख्तरी बाई फ़ैज़ाबादी का जन्म उत्तर प्रदेश के फैजाबाद में 7 अक्टूबर 1914 में हुआ था। अख्तरी बाई भारत की प्रसिद्ध गायिका थीं, जिन्हें दादरा, ठुमरी व ग़ज़ल में महारत हासिल थी। उन्हें कला के क्षेत्र में भारत सरकार ने पहले पद्म श्री तथा सन 1975 में मरणोपरांत पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। उन्हें 'मल्लिका-ए-ग़ज़ल' के खिताब से नवाज़ा गया था।

सुर्ख़ियों और सम्मान ने कदम चूमे

बेगम अख्तर ने अपनी गायकी की बदौलत काफी सुर्खियां और सम्मान बटोरा। बेगम अख्तर ने फिल्मों में भी काम किया था। उन्होंने 'एक दिन का बादशाह' नाम की फिल्म में अभिनय किया था, हालांकि फिल्म को खास सफलता नहीं मिली लेकिन उन्होंने अपने अभिनय का जौहर दिखाया। बाद में बेगम अख्तर लखनऊ में बस गईं और यहां उनकी मुलाकात महबूब खान से हुई, बेगम अख्तर से मुलाकात के बाद महबूब खान ने उन्हें मुंबई बुलाया और 1942 में फिल्म 'रोटी' में उन्हें काम करने का मौका मिला।

इश्तिआक अहमद अब्बासी से किया निकाह

साल 1945 में जब उनकी शौहरत चरम पर थी, तब उन्होंने इश्तिआक अहमद अब्बासी, जो पेशे से वकील थे, से निकाह कर लिया और अख़्तरी बाई फ़ैज़ाबादी से बेगम अख़्तर बन गईं। अपनी जादुई आवाज से श्रोताओं के दिलों के तार को छेड़ने वाली यह महान गायिका 30 अक्तूबर 1974 को इस दुनिया को अलविदा कह गईं।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story