देश के इन 20 लोगों के व्हाट्सअप डेटा की जासूसी, सरकार ने कहा इनका है हाथ

केंद्र सरकार ने माना 20 लोगों के पर्सनल वॉट्सऐप डेटा  की की जासूसी की गई है। सरकार ने माना है कि इसके पीछे इजरायली पेगासस स्पाईवेयर का ही हाथ था।सरकार ने बताया कि इस मामले में 121 लोगों के वॉट्सऐप डेटा को टारगेट किया गया था। पेगासस स्पाईवेयर की जासूसी के शिकार 1400 में से 121 भारतीय लोगों को लेकर पिछले महीने फेसबुक के

Published by suman Published: December 4, 2019 | 8:45 pm

नई दिल्ली:   केंद्र सरकार ने माना 20 लोगों के पर्सनल वॉट्सऐप डेटा  की की जासूसी की गई है। सरकार ने माना है कि इसके पीछे इजरायली पेगासस स्पाईवेयर का ही हाथ था।सरकार ने बताया कि इस मामले में 121 लोगों के वॉट्सऐप डेटा को टारगेट किया गया था। पेगासस स्पाईवेयर की जासूसी के शिकार 1400 में से 121 भारतीय लोगों को लेकर पिछले महीने फेसबुक के स्वामित्व वाली कंपनी (वॉट्सऐप) ने कहा था कि उन लोगों में जिनकी जासूसी हो रही है वो पत्रकार,नागरिक अधिकार कार्यकर्ता भी शामिल थे, जिनकी पेगासस स्पाईवेयर के जरिए निगरानी की जा रही थी।

रविशंकर प्रसाद  ने लोकसभा में बताया, वॉट्सऐप लगातार उपलब्ध जानकारियों का रिव्यू कर रहा है। यह भी जिक्र किया गया है कि वॉट्सऐप मानता है कि वॉट्सऐप का प्रयोग करने वाले भारत के 121 यूजर्स के डेटा पर हमला किया गया था जिसमें से कम से कम 20 यूजर्स का डेटा अटैकर्स ने एक्सेस किया है।

यह पढ़ें…व्हाट्सएप पर हैं ब्लॉक तो ऐसे मिनटों में लगाएं पता

इससे पहले मैसेजिंग ऐप वॉट्सऐपने पेगासस स्पाईवेयर के मामले में सरकार को पत्र लिखकर खेद जताया था। सरकार की ओर से वरिष्ठ सूत्रों ने यह भी बताया था कि इस पत्र में वॉट्सऐप की ओर से सुरक्षा मानकों को सुनिश्चित करने के लिए हर जरूरी कदम उठाने की बात भी कही गई थी।

यह पढ़ें…खतरनाक है फ्री WiFi! दिल्ली वाले हो जाएं सावधान, यूज से पहले इन बातों का रखें ध्यान

पहले सरकार ने वॉट्सऐप को यह भी साफ किया था कि वह मैसेजिंग ऐप पर सुरक्षा में खामी बर्दाश्त नहीं करेगी. वॉट्सऐप के अनुसार, स्पाईवेयर को इजरायल के NSO ग्रुप ने दुनियाभर में 1400 यूजर्स को जासूसी का निशाना बनाया था. इन यूजर्स में 121 यूजर्स भारत के भी थे।वॉट्सऐप के प्रवक्ता ने एक मेल के जरिए दिए बयान में कहा था कि कंपनी भारत के उपभोक्ताओं की प्राइवेसी की सुरक्षा के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। उपभोक्ताओं की सुरक्षा को भविष्य में ऐसा खतरा न हो इसके लिए वह इंडस्ट्री की सबसे मजबूत सिक्योरिटी सभी मैसेज और कॉल्स के लिए उपलब्ध कराएंगे। सरकार के इन अटैक के बारे में और जानकारी मांगने के बाद वॉट्सऐप ने कहा था कि उसने भारतीय कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांड टीम को सितंबर में इन 121 भारतीयों पर पेगासस की निगरानी के बारे में बताया था।