×

जीएसटी संग्रह जनवरी में मामूली घटकर 86,318 करोड़ रुपये रहा

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 27 Feb 2018 2:14 PM GMT

जीएसटी संग्रह जनवरी में मामूली घटकर 86,318 करोड़ रुपये रहा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : जीएसटी के तहत राजस्व के संग्रह में मामूली गिरावट दर्ज की गई है और जनवरी में यह 385 करोड़ रुपये रही। लगातार दो महीनों की गिरावट के बाद दिसंबर में जीएसटी संग्रह में तेजी आई थी और 86,703 करोड़ रुपये का कर संग्रह किया गया था।

वित्त मंत्रालय ने कहा, "जनवरी में जीएसटी के तहत (25 फरवरी तक) कुल 86,318 करोड़ रुपये का राजस्व संग्रह हुआ।"

इनमें से 14,233 करोड़ रुपये केंद्रीय जीएसटी के तहत, 19,961 करोड़ रुपये राज्य जीएसटी के तहत, 43,794 करोड़ रुपये एकीकृत जीएसटी के तहत और 8,331 करोड़ रुपये मुआवजा सेस के जरिए संग्रहित हुआ।

ये भी देखें : GST EFFECT: जीएसटी से गुरुद्वारों के मुफ्त लंगर में हो रही है मुश्किल

मंत्रालय के मुताबिक, करीब जीएसटी के अंतर्गत अब तक 1.03 करोड़ करदाता पंजीकृत हुए हैं और करीब 57.78 लाख रिटर्न दाखिल किए गए हैं।

मंत्रालय ने कहा, "यह कुल करदाताओं का 69 फीसदी है, जिन्हें मासिक रिटर्न दाखिल करने की आवश्यकता होती है।"

जीएसटी के तहत एकत्र की गई कुल रकम में 11,327 करोड़ रुपये आईजीएसटी से सीजीएसटी में हस्तांतरित किए जाएंगे और 13,479 करोड़ रुपये एसजीएसटी में हस्तांतरित किए जाएंगे।

मंत्रालय ने कहा, "इस प्रकार से कुल संग्रहण सीजीएसटी और एसजीएसटी के तहत क्रमश: 25,560 करोड़ रुपये और 33,440 करोड़ रुपये हुए।"

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story