हो जाएं सावधान: गुजरात पहुंचा ‘महा’, तूफान के साथ होगी भीषण बारिश

दक्षिण भारत में लगातार मौसम करवट ले रहा है। मौसम विभाग ने चेतावनी देते हुए कहा कि अरब सागर में एक अनोखी घटना घट रही है।

गांधीनगर: दक्षिण भारत में लगातार मौसम करवट ले रहा है। मौसम विभाग ने चेतावनी देते हुए कहा कि अरब सागर में एक अनोखी घटना घट रही है। अरब सागर में एक साथ दो चक्रवाती तूफान उठ रहे हैं। मौसम विभाग ने कहा कि चक्रवाती तूफान ‘महा’ के अगले 24 घंटों में पूर्वी-मध्य अरब सागर में एक बहुत बड़े चक्रवाती तूफान में तब्दील होने की आशंका है।

ये भी देखें:महाराष्ट्र: शिवसेना को तगड़ा झटका, पवार ने कह दी ये बड़ी बात

तो वहीं स्काइमेट के मुताबिक अरब सागर में उठा गंभीर चक्रवाती तूफान ‘महा’ 6 नवंबर को गुजरात तट से टकरा सकता है। 2-3 दिन में महा तूफान के केरल के तट से भारतीय जल सीमा में आने का अंदाजा लगाया जा रहा है। ‘महा’ तूफान के चलते गुजरात के तटीय क्षेत्रों सौराष्ट्र के पोरबंदर, देवभूमि द्वारका, सोमनाथ, जूनागढ़ में भीषण बारिश की आशंका है। यह चक्रवाती तूफान अरबी समुद्र से उत्तर-पश्चिम की ओर आगे बढ़ रहा है।

गुजरात के तटीय क्षेत्र की ओर बढ़ेगा तूफान

मौसम विभाग के डायरेक्टर जंयत सरकार ने बताया कि गुजरात के वेरावल तट के दक्षिण में 640 किमी दूर दक्षिण में ‘महा’ तूफान अपनी दिशा बदल सकता है। ‘महा’ तूफान 6 नवंबर की सुबह गुजरात के तटीय क्षेत्र की ओर बढ़ सकता है। हवा की गति 60 से 70 किलोमीटर प्रति घंटा रहने की आशंका है। जिस वजह से भीषण बारिश हो सकती है।

बारिश और तेज हवाओं का अंदाजा

दक्षिणी गुजरात और सौराष्ट्र के तटीय इलाकों में तेज हवाएं चल सकती हैं। गौरतलब है कि पिछले दिनों क्यार चक्रावत की वजह से दक्षिण गुजरात और सौराष्ट्र के कई इलाकों में भारी बारिश हुई थी। जिसकी वजह से किसानों की फसल को काफी नुकसान हुआ।

ये भी देखें:6 नवंबर को गुजरात तट से टकरा सकता है चक्रवाती तूफान ‘महा’, अलर्ट जारी

मछुआरों से समुद्र किनारे ना जाने की अपील

गुजरात के किसानों को ‘क्यार’ तूफान के बाद अब ‘महा’ नामक चक्रवात का सामना करना पड़ सकता है। मौसम विभाग ने राज्य में एक बार फिर भीषण बारिश होने का अंदाजा लगाया है। महा चक्रवात के चलते मछुआरों को सतर्क करते हुए समुद्र में ना जाने की सलाह दी गई है।