डकैती मेरे घर में, मुझे ही बना डाला चोर: पूर्व सीएम का आरोप

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा है कि सीबीआई जिस कथित सीडी को आधार मान कर कार्रवाई कर रही है, उसी सीबीआई को मौजूदा समय में सत्ता पक्ष से जुड़ी सीडी आखिर क्यों नजर नहीं आ रही है। उसका संज्ञान क्यों नहीं लिया जा रहा है।

नई दिल्ली: कांग्रेस पार्टी की वर्तमान स्थिती के बारे में क्या कहा जाये, कांग्रेस पार्टी पर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा है। एक तरफ जहां कांग्रेस मुखिया सोनिया सहित गांधी परिवार हेराल्ड केस पर जमानत है, वहीं कांग्रेस के कई संकटमोचकों जैसे पी. चिदंबरम, हरीश रावत, डी के शिवकुमार पर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा है। इसी बीच हरीश रावत और नेता प्रतिपक्ष कांग्रेस डॉ. इंदिरा हृदयेश ने BJP और CBI पर वार किया है।

कांग्रेस ने किया वार…

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा है कि सीबीआई जिस कथित सीडी को आधार मान कर कार्रवाई कर रही है, उसी सीबीआई को मौजूदा समय में सत्ता पक्ष से जुड़ी सीडी आखिर क्यों नजर नहीं आ रही है। उसका संज्ञान क्यों नहीं लिया जा रहा है।

साथ ही उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ आवाज उठाने वालों को सीबीआई, ईडी, इनकम टैक्स समेत दूसरी सरकारी एजेंसियों के जरिये दबाया जा रहा है। कांग्रेस पूरी तरह से हरीश रावत के साथ है। इस अघोषित आपातकाल के खिलाफ मजबूती से लड़ा जाएगा। हमें न्यायालय पर पूरी तरह भरोसा है।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा…

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा है कि यह मामला हाईकोर्ट के विचाराधीन है। मुझे न्यायिक व्यवस्था पर पूरा विश्वास है। मुझे पूरी उम्मीद है कि जीत आखिर में सत्य की होगी। हरीश रावत ने जहां न्यायिक व्यवस्था पर विश्वास जताया, वहीं केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि  मेरी एक शंका का समाधान अब तक कोई भी नहीं कर पाया है।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सवाल यह है कि डकैती मेरे घर में हुई। और सामान जिसके घर में बरामद हुआ, अब तक वहीं पड़ा है। आरोप मुझ पर लग रहा है कि मैंने अपने ही घर में चोरी कर माल दूसरे के घर में डाल दिया। बकौल रावत, मैं अपने घर के माल का दोषी हूं। और, जिसके घर में माल पाया जा रहा है, वो साहूकार है। सीबीआई अपने कर्तव्य का पालन कर रही है। हम इसमें पूरा सहयोग करेंगे।

सीबीआई जांच में पूरा सहयोग किया

साथ ही साथ पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सीबीआई जांच में सहयोग की बात कही। उन्होंने कहा कि जब-जब सीबीआई ने मुझे पूछताछ के लिए बुलाया, मैं सीबीआई के पास गया और पूरा सहयोग किया। हरीश रावत ने सीबीआई के दुरुपयोग पर भी इशारा किया।

कई संकटमोचक है शामिल…

सीबीआई ने बड़ी कार्रवाई करते हुए एक माह के भीतर पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम और कर्नाटक में कांग्रेस के माने जाने नेता डी के शिवकुमार के बाद पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत पर शिकंजा कस लिया है। सीबीआई की सख्ती के कारण हरीश रावत और कांग्रेस की मुश्किलें बढ़नी तय हैं। बता दें कि हरीश उत्तराखंड और केंद्र स्तर पर कांग्रेस का बड़ा चेहरा हैं।

बताया जा रहा है कि अभी सीबीआई ने हाईकोर्ट के सामने मुकदमा दर्ज करने की बात कही है। ऐसे में सीबीआई की अचानक कार्रवाई होने से कांग्रेस को बड़ा नुकसान हो सकता है।

वहां दुसरी तरफ उत्तराखंड में आगामी पंचायत चुनाव के लिहाज से कांग्रेस पार्टी की तैयारियों को बड़ा झटका लगेगा। रावत जैसे बड़े चेहरे पर कार्रवाई होने से इसका सीधा नुकसान पार्टी को उठाना पड़ सकता है।

रावत पर है बड़ी जिम्मेदारी…

हरीश रावत पर कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव के साथ असम प्रभारी का जिम्मा रहा है। वह विस चुनाव और फिर लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद भी कांग्रेस के लिए लगातार सक्रिय रहे थे।

CBI ने की पूछताछ…

सीबीआई इस मामले में वर्ष 2016 से जांच कर रही है। बताया जहा है कि सीबीआई ने इतने सबूत जुटा लिए हैं कि हरीश रावत के खिलाफ एफआईआर की जा सके।

बताया जा रहा है कि सीबीआई ने हरीश रावत से 24 मई और 26 दिसंबर 2016 को पूछताछ की। तब सीबीआई ने उनसे करीब पांच घंटे कई सवाल जवाब किए गए थे। हरीश रावत इनमें से ज्यादातर सवालों के जवाब नहीं दिये थे। इसके बाद सीबीआई ने 21 अगस्त 2019 को नैनीताल हाईकोर्ट में इस मामले की जांच पूरी होने की रिपोर्ट दे दी।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App