इमाम बुखारी की मुस्लिम समुदाय से अपील- सपा के बारे में सोचना बंद कर विकल्प तलाशें

सपा से खफा इमाम बुखारी ने बसपा को दिया समर्थन, कहा- 5 साल में एक भी वादा पूरा नहीं किया

नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी (सपा) में जारी उठापटक के बीच दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने मुस्लिम समुदाय को सपा से दूरी बनाने की बात कही। इमाम बुखारी का कहना है कि ‘मुस्लिम समुदाय के मतदाताओं को अब सपा के बारे में सोचना बंद कर देना चाहिए। उन्हें किसी नए विकल्प पर विचार करना चाहिए।’

टाइम्स आॅफ इंडिया (टीओआई) की खबर की मानें तो शाही इमाम बुखारी का कहना है कि सपा मुस्लिम समाज के लोगों की समस्याओं को पूरी तरह उठाने में असफल रही है। उन्होंने कहा, ‘सपा ने मुस्लिमों को छला है। सपा ने केंद्र में बीजेपी की सरकार बनाने में उसकी मदद की है। उस समय मुलायम सिंह के परिवार से केवल पांच सांसद ही लोकसभा भेजे गए।’

सपा को सबक सीखने का वक़्त आ गया
गौरतलब है कि दिल्ली जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने साल 2012 के यूपी विधानसभा चुनाव में सपा का खुले तौर पर समर्थन किया था। उसी का जिक्र करते हुए बुखारी ने कहा, ‘मुलायम सिंह यादव ने उन्हें वादा किया था कि वह मुस्लिम समुदायों की परेशानियों को सही ढंग से उठाएंगे। साथ ही मुस्ल्मिों को 18 फीसदी आरक्षण भी दिलाएंगे। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इसलिए सपा को सबक सिखाने का वक्त आ गया है।

मतभेद दूर करने की दी थी सलाह 
सपा में मचे घमासान के बीच शाही इमाम का यह बयान पार्टी के स्वास्थ्य पर क्या असर होगा यह तो आगे ही पता चलेगा। इससे पहले अक्टूबर महीने में इमाम बुखारी ने लखनऊ जाकर यादव परिवार से मुलाकात की थी। उस दौरान उन्होंने आपसी मतभेद को दूर करने की सलाह दी थी।