मुश्किल दौर से गुजर रहा है देश, बढ़ रही असहिष्णुता: प्रणब मुखर्जी

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को कहा कि देश में मानवाधिकारों के हनन हो रहा है। यही नहीं, असहिष्णुता भी काफी बढ़ गई है। उन्होंने ये भी कहा कि अमीरों की जेब में देश का ज्यादातर पैसा जा रहा है।

Published by Manali Rastogi Published: November 24, 2018 | 11:26 am
Modified: November 24, 2018 | 12:35 pm
मुश्किल दौर से गुजर रहा है देश, बढ़ रही असहिष्णुता: प्रणब मुखर्जी

मुश्किल दौर से गुजर रहा है देश, बढ़ रही असहिष्णुता: प्रणब मुखर्जी

नई दिल्ली: पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने शुक्रवार को कहा कि देश में मानवाधिकारों के हनन हो रहा है। यही नहीं, असहिष्णुता भी काफी बढ़ गई है। उन्होंने ये भी कहा कि अमीरों की जेब में देश का ज्यादातर पैसा जा रहा है, इस्सके अमीर और गरीब के बीच में खाई लगातार बढ़ रही है। पूर्व राष्ट्रपति ने इसे लेकर भी गहरी चिंता जताई है।

यह भी पढ़ें: तेलंगाना विधानसभा चुनाव: सिर्फ हैदराबाद की 8 सीटों पर चुनाव लड़ेगी ओवैसी की पार्टी AIMIM

प्रणब मुखर्जी ने अपनी प्रतिक्रिया ‘शांति, सद्भावना व प्रसन्नता की ओर: संक्रमण से परिवर्तन’ विषय पर आयोजित दो दिन के राष्ट्रीय सम्मेलन में दी। बता दें, इस सम्मलेन का आयोजन प्रणब मुखर्जी फाउंडेशन एंड सेंटर फॉर रूरल एंड इंडस्ट्रियल डिवेलपमेंट ने किया है। सम्मलेन के उद्घाटन समारोह में पूर्व राष्ट्रपति ने कहा कि इस वक्त देश एक मुश्किल दौर से गुजर रहा है।

यह भी पढ़ें: 2019 लोकसभा चुनाव के लिए BJP दिल्ली के तीन सांसदों के काट सकती है टिकट

उन्होंने आगे कहा कि भारत वो देश है, जिसने ‘वसुधैव कुटुंबकम’ और सहिष्णुता का सभ्यतामूलक सिद्धांत, स्वीकार्यता और क्षमा की अवधारणा दी है। मगर अब हमारी धरती मानवाधिकारों के उल्लंघन, बढ़ती असहिष्णुता और गुस्से की ओर आगे बढ़ रही है और इस कारण से चर्चा का विषय बनी हुई है। अब देश को लेकर इंटरनेशनल प्लेटफार्म पर सवाल उठ रहे हैं।

यह भी पढ़ें: राम मंदिर के लिए 25 को अयोध्या में जुटेंगे 2 लाख लोग, स्कूल -कालेज रहेंगे बंद