×

Animal Smuggling: भारत बना जानवरों की तस्करी का हॉटस्पॉट, 70 हजार जानवर जब्त

Animal Smuggling In India: 2011-2020 के बीच 18 भारतीय हवाई अड्डों पर 140 वन्यजीव जब्ती की घटनाओं में 70,000 से अधिक देशी और विदेशी जंगली जानवरों की तस्करी का पता चला है।

Neel Mani Lal
Written By Neel Mani Lal
Updated on: 29 Jun 2022 4:13 PM GMT
animal smuggling In India
X

animal smuggling In India| (Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Animal Smuggling: थाईलैंड (Thailand) में दो भारतीय महिलाओं को 109 जीवित जानवरों के साथ पकड़े जाने की घटना, भारत में वन्य जीवों की बड़े पैमाने पर तस्करी (Animal Trafficking) का एक नमूना भर है। एक रिपोर्ट के अनुसार, 2011-2020 के बीच 18 भारतीय हवाई अड्डों पर 140 वन्यजीव जब्ती की घटनाओं में 70,000 से अधिक देशी और विदेशी जंगली जानवरों की तस्करी का पता चला है। इन बरामदगी में जीवित वन्य जीव, उनके अंग और वन्यजीवों के डेरिवेटिव शामिल हैं।

जब्त की गई प्रजातियों में से कई को आईयूसीएन रेड लिस्ट (IUCN Red List) में खतरे के रूप में वर्गीकृत किया गया है। ऐसे बहुत से वन्य जीव लुप्तप्राय प्रजातियों (wildlife endangered species) में शामिल हैं। 2011-2020 के बीच जब्त की गई देशी प्रजातियों में सबसे अधिक संख्या इंडियन स्ट्राइप कछुए (Indian Striped Turtles) की थी।

बैंकॉक में 109 जीवित जानवरों के साथ पकड़ी दो भारतीय महिला

ताजा घटना थाईलैंड में बैंकॉक के सुवर्णभूमि हवाई अड्डे (Suvarnabhumi Airport in Bangkok) की है जहां चेन्नई की फ्लाइट पकड़ने वाली दो भारतीय महिलाओं को 109 जीवित जानवरों के साथ पकड़ा गया। थाईलैंड के राष्ट्रीय उद्यान, वन्यजीव और पादप संरक्षण विभाग ने कहा है कि एक्स-रे निरीक्षण के बाद जंगली जानवरों को दो सूटकेस में बरामद किया गया था।घटनास्थल पर बुलाए गए वन्यजीव अधिकारियों ने दो सूटकेसों में दो सफेद साही, दो आर्मडिलो, 35 कछुए, 50 छिपकली और 20 सांप पाए। थाई अधिकारियों ने कहा कि ये सूटकेस दो भारतीय महिलाओं के थे। 38 वर्षीय निथ्या राजा और 24 वर्षीय जकिया सुल्ताना इब्राहिम, जो चेन्नई के लिए उड़ान भरने वाली थीं। इन महिलाओं पर वन्यजीव संरक्षण और संरक्षण अधिनियम, पशु रोग अधिनियम और सीमा शुल्क अधिनियम का उल्लंघन करने का आरोप लगाया गया है।

पहले भी हो चुका है ऐसा मामला पेश

हवाई अड्डों के माध्यम से पशु तस्करी क्षेत्र में लंबे समय से एक मुद्दा रहा है। 2019 में, बैंकॉक से चेन्नई पहुंचने वाले एक व्यक्ति को उस वक्त हवाई अड्डे पर हिरासत में लिया गया था, जब सीमा शुल्क अधिकारियों ने उसके सामान में एक महीने का तेंदुआ शावक पाया।

एक वन्यजीव व्यापार निगरानी एजेंसी (Wildlife Trade Monitoring Agency), ट्रैफिक की मार्च 2022 की रिपोर्ट में कहा गया है कि 2011 और 2020 के बीच 18 भारतीय हवाई अड्डों पर 140 बरामदगी में 70,000 से अधिक देशी और विदेशी जंगली जानवरों को बरामद किया गया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि "चेन्नई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे में वन्यजीव जब्ती की सबसे अधिक घटनाएं दर्ज की गईं, इसके बाद छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, मुंबई और इंदिरा गांधी हवाई अड्डे नई दिल्ली हैं।"

वन्यजीव तस्करी

  • दुनिया में वन्यजीव तस्करी एक बहुत बड़ा व्यवसाय है जिसकी अनुमानित वैल्यू 23 अरब डॉलर प्रति वर्ष है।
  • वन्यजीव तस्करी दसियों हज़ार प्रजातियों को खतरे में डालती है।
  • यह मनुष्यों को भी प्रभावित करता है उदा। वन्यजीव तस्करी को हत्या, रिश्वतखोरी, संगठित अपराध, आतंकवाद के वित्तपोषण और कई अन्य खतरों से भी जोड़ा गया है।
  • भारत ने व्यापार के लिए वन्यजीवों के इस तरह के अत्यधिक दोहन को हतोत्साहित करने के लिए कई सुरक्षा उपायों और नीतियों को लागू किया है। बाघों, गैंडों, हाथियों और अन्य के मामलों में इसे अच्छी तरह से प्रचारित किया गया है, लेकिन कई अन्य प्रजातियां अब भी असुरक्षित हैं।
  • एक्सपर्ट्स के अनुसार भारत में कंगारू, बैबून जैसे बड़े जानवरों की तस्करी से पता चलता है कि देश में ऐसे जानवरों को पालतू के तौर पर रखने का ट्रेंड तेजी से बढ़ रहा है।
Deepak Kumar

Deepak Kumar

Next Story