×

स्वदेशी वैक्सीन पर बड़ी खबर: भारत बायोटेक के MD ने दी ये जानकारी, जान लें देश

हम सिर्फ भारत में क्लिनिकल ट्रायल नहीं कर रहे हैं। हमने ब्रिटेन सहित 12 से अधिक देशों में क्लिनिकल ट्रायल किए हैं।  पाकिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश और अन्य देशों में भी क्लिनिकल ट्रायल कर रहे हैं।

suman

sumanBy suman

Published on 4 Jan 2021 3:32 PM GMT

स्वदेशी वैक्सीन पर बड़ी खबर: भारत बायोटेक के MD ने दी ये जानकारी, जान लें देश
X
सियासी विवाद पर भारत बायोटेक के एमडी बोले- कोवैक्सीन के ट्रायल पर कोई न उठाए सवाल
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: कोवैक्सिन को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं ऐसे में वैक्सीन बनाने वाली कंपनी का कहना है कि वो कोवैक्सीन के डेटा को लेकर पूरी तरह से पारदर्शी है। भारत में दो वैक्सीन को मंजूरी मिलने के बाद इस पर सियासत जोरों पर है।

यह पढ़ें...किसान आंदोलन पर बोले अखिलेश यादव- बीजेपी सरकार ने आज फिर निरर्थक वार्ता करके अगली तारीख दे दी

इन्होंने किए थे सवाल

बीते दिनों कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा था कि भारत बायोटेक की कोवैक्सीन का फेज थ्री ट्रायल होना बाकी है, ऐसे में उससे पहले ही इसे परमिशन क्यों दी गई। शशि थरूर के साथ पूर्व मंत्री जयराम रमेश ने भी सवाल खड़े किए थे।इस पर केंद्र स्वास्थ्य मंत्री ने कहा था कि कोवैक्सीन को सभी जरूरी जांच के बाद ही इजाजत दी गई है । थरूर ने फिर जवाब देते हुए ट्वीट किया था कि आपका कहना कि इससे दुष्परिणाम नहीं होंगे, सुखदायक है। ‘ये दूसरी वैक्सीन जितनी कारगर होगी’, ये आश्वासन नहीं देता है। कांग्रेस नेता शशि थरूर ने आगे लिखा कि संभावना तभी निश्चित हो सकती है, जब क्लिनिकल ट्रायल का फे-3 भी हो।

बायोटेक के एमडी का बयान

भारत बायोटेक के एमडी कृष्णा एला का बड़ा बयान आया है। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों द्वारा वैक्सीन का राजनीतिकरण किया जा रहा है, यह स्पष्ट रूप से बताना चाहता है कि उनके परिवार का कोई भी सदस्य किसी भी राजनीतिक दल से नहीं जुड़ा है। इसलिए इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए।

CORONA VACCINE

सिर्फ भारत नहीं,12 अन्य देशों

हम सिर्फ भारत में क्लिनिकल ट्रायल नहीं कर रहे हैं। हमने ब्रिटेन सहित 12 से अधिक देशों में क्लिनिकल ट्रायल किए हैं। पाकिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश और अन्य देशों में भी क्लिनिकल ट्रायल कर रहे हैं।

बता दें कि भारत बायोटेक की कोवैक्सिन को ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने इमरजेंसी यूज की मंजूरी दे दी है। इस पर विपक्ष ने आरोप लगाया है कि ये मंजूरी हड़बड़ी में दी गई है।

यह पढ़ें...UP में 1065 नियुक्तियां: CM योगी ने बांटे नियुक्ति पत्र, आयुष चिकित्सा पर बोले ये..

कोई सवाल न उठाए

आलोचकों पर निशाना साधते हुए कृष्ण एला ने कहा कि केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन 2019 द्वारा निर्धारित शर्तों के आधार पर मंजूरी दी गई है। हम ऐसी कंपनी नहीं हैं, जिसके पास वैक्सीन बनाने का अनुभव नहीं है। हमारे पास वैक्सीन बनाने का अच्छा अनुभव है। हम 123 देशों के लिए काम कर रहे हैं। इस तरह का अनुभव रखने वाली हमारी एक मात्र कंपनी है। इसलिए हमारे वैक्सीन पर कोई सवाल न उठाए।

एल्ला ने कहा कि कई लोग कह रहे हैं कि हमारे डेटा में पारदर्शिता नहीं बरती गई है। ऐसे लोगों को संयम रखना चाहिए और इंटरनेट पर डेटा के संबंध में जो आर्टिकल पब्लिश हैं, उन्हें पढ़ना चाहिए। अब तक 70 से ज्यादा आर्टिकल इंटरनेशनल जर्नल्स में पब्लिश हो चुके हैं।

suman

suman

Next Story