भारत के लिए खतरे की घंटी, चीन की सेना रात में इस स्थान पर कर रही युद्ध की प्रैक्टिस

भारत-चीन सीमा पर अभी भी तनाव बना हुआ है। दोनों देशों की सेनाएं बॉर्डर पर डटी हुई हैं। जिस ढंग से यहां दोनों तरफ से फ़ोर्स की तैनाती की गई है। उसे देखकर युद्ध से भी इनकार भी नहीं किया जा सकता है।

नई दिल्ली: भारत-चीन सीमा पर अभी भी तनाव बना हुआ है। दोनों देशों की सेनाएं बॉर्डर पर डटी हुई हैं। जिस ढंग से यहां दोनों तरफ से फ़ोर्स की तैनाती की गई है। उसे देखकर युद्ध से भी इनकार भी नहीं किया जा सकता है।

आज की बड़ी खबर चीन के ही अखबार ग्लोबल टाइम्स के हवाले से सामने आई है। जिसमें चीनी सेना के भारत से सटे तिब्बत सीमा के पहाड़ियों में युद्ध अभ्यास की बात कही गई है।

ये सैन्य अभ्यास चीनी सेना समुद्र तल से 4700 मीटर की ऊंचाई पर कर रही है। मीडिया रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि चीनी सेना यह युद्ध अभ्यास रात के अंधेरे में कर रही है।

लद्दाख में तनाव बढ़ा: चीन को जवाब देने के लिए मिराज और सुखोई तैनात, टैंक भी भेजे

युद्ध अभ्यास के पीछे चीन की है ये मंशा

इस खबर को अब सोशल मीडिया में भी लोग बढ़-चढ़कर शेयर कर रहे हैं।  इस बात का अंदेशा भी जताया जा रहा है कि चीन ये सब केवल इसलिए कर रहा है ताकि विपरीत परिस्थिति में आवश्यकता पड़ने पर उसे युद्ध के लिए ज्यादा मेहनत न करनी पड़े। इसलिए वह पहले से तैयारी करके रखना चाहता है।

मीडिया रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र किया गया है कि चीन की हर गतिविधियों पर भारत नजर रखें हुए हैं। उसकी सेनाएं लगातार सीमा पर अलर्ट हैं। अंदर ही अंदर उसने भी जरूरी तैयारियां शुरू कर दी है।

वार एक्सपर्ट का मानना है कि अंधेरे में युद्ध लड़ना बेहतर होता है क्योंकि इससे दुश्मन को ज्यादा नुकसान पहुंचता है जबकि हमला करने वाले देश का नुकसान कम होता है।

भारत के खिलाफ चीन की बड़ी साजिश, हमले का बनाया ये खतरनाक प्लान

मोर्टार सेल दागे जाने और राइफल ग्रनेड के इस्तेमाल की बातें आ चुकी हैं सामने

अभी तक जो जानकारी निकलकर सामने आई हैं उसके अनुसार चीनी सेना रात में किए गए इस युद्ध अभ्यास में पूरी बटालियन ने तिब्बत की तंग्गुलिया माउंटेन की तरफ लक्ष्य साधकर सैन्य अभ्यास कर रही हैं। इस दौरान बीच-बीच में मोर्टार सेल दागे जाने और राइफल ग्रनेड के इस्तेमाल किये जाने की बात सामने आई है।

इस सैन्य अभ्यास में चीनी सेना ने स्नाइपर अटैक, एंटी टैंक रॉकेट, लाइट आर्मर्ड व्हीकल का भी इस्तेमाल किया। कहा तो ऐसा भी जा रहा है कि चीन के चैनल सीसीटीवी ने भी सोमवार को एक कार्यक्रम में इस सैन्य अभ्यास को दिखाया।

इस दौरान सैन्य अभ्यास में हिस्सा लेने वाली गाड़ियों की लाइटें भी बंद रखीं गईं और नाइट विजन डिवाइसेज और टेक्नोलोजी की सहायता ली गई।

भारत के खिलाफ चीन की बड़ी साजिश, हमले का बनाया ये खतरनाक प्लान