×

Cambridge university: कैंब्रिज से भारत का पुराना नाता, मनमोहन सिंह के नाम से भी हैं प्रतिष्ठित स्कॉलरशिप

Cambridge university: कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में पढ़ना ही गर्व की बात है, ये गौरव चंद भारतीयों को मिला है जिनमें पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह भी शामिल हैं।

Neel Mani Lal
Updated on: 21 May 2022 11:29 AM GMT
Indias old relation with Cambridge, also has prestigious scholarship in the name of Manmohan Singh
X

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह-कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय: Photo - Social Media

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Lucknow: यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom) के नामचीन कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय (Cambridge University) की स्थापना 1206 में हुई थी। भारत से भी इस विश्वविद्यालय का पुराना संबंध (India and Universities) है। जवाहरलाल नेहरू, विश्वविख्यात वैज्ञानिक रामानुजम, महाराजा रणजीतसिंह, हरिवंश राय बच्चन, अमर्त्य सेन, मनमोहनसिंह और लार्ड करन बिलमोरिया इस विश्वविद्यालय के छात्र रह चुके हैं। जहां इस यूनिवर्सिटी में पढ़ना ही गर्व की बात (Proud to study in Cambridge university) हो तो फिर इसी यूनिवर्सिटी में किसी के नाम की स्कॉलरशिप का होना तो बहुत ही बड़ी बात है। और ये गौरव चंद भारतीयों को मिला है जिनमें पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह (Former Prime Minister Dr Manmohan Singh) भी शामिल हैं।

800 साल पुराने प्रतिष्ठित कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय ने प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहनसिंह के नाम पर भारतीय छात्रों के लिए स्कॉलरशिप 2009 में शुरू की थी। ये छात्रवृत्ति किसी भी छात्र के लिए कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के सेंट जॉन कॉलेज में डॉक्टरेट अध्ययन के लिए और विश्वविद्यालय में स्नातक अध्ययन के लिए उपलब्ध है। पूर्व प्रधानमंत्री और प्रसिद्ध अर्थशास्त्री मनमोहन सिंह ने 1957 में अर्थशास्त्र के साथ सेंट जॉन कॉलेज से स्नातक की उपाधि प्राप्त की, 1962 में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय (University of Oxford) से डी.फिल की उपाधि प्राप्त की, और 2006 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय द्वारा उन्हें डॉक्टरेट की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया।

कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय: Photo - Social Media

डॉक्टरेट अध्ययन

ये कॉलेज द्वारा प्रदान किए जाने वाले संभावित भारतीय पीएचडी छात्रों के लिए पीएचडी मानक छात्रवृत्ति हैं। यह पुरस्कार अकादमिक रूप से उज्ज्वल भारतीय छात्रों को लाभान्वित करने के लिए डिज़ाइन किया गया था और कॉलेज द्वारा प्रशासित किया जाता है। छात्रवृत्ति कार्यक्रम को बीपी, रोल्स-रॉयस, हरदीप राय (सेंट जॉन्स कॉलेज के पूर्व छात्र) और दो अज्ञात प्रायोजकों द्वारा वित्त पोषित किया गया है। ये स्कॉलरशिप विज्ञान प्रौद्योगिकी, अर्थशास्त्र, सामाजिक विज्ञान, अंतरिक्ष इंजीनियरिंग, मरीन इंजीनियरिंग और ऊर्जा अध्ययन के लिए दी जाती है।

इस स्कॉलरशिप को शुरू करने का सुझाव अभिजीत बनर्जी ने दिया था जो खुद सेंट जॉन कॉलेज से पढ़े हुए हैं। अभिजीत बनर्जी अमेरिकी नागरिक और अग्रणी अर्थशास्त्री व उद्यमी हैं।मनमोहन सिंह स्नातक छात्रवृत्ति किसी भी विषय में भारतीय स्नातक आवेदकों के लिए उपलब्ध है। आवेदकों को कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में अध्ययन करने के लिए वित्तीय सहायता की आवश्यकता होनी चाहिए। इस छात्रवृत्ति का मूल्य आवेदक की वित्तीय आवश्यकता के स्तर और उपलब्ध छात्रवृत्ति निधि पर निर्भर करता है। यह सभी प्रकार की ट्यूशन और कॉलेज फीस को कवर करने वाली एक मेरिट आधारित छात्रवृत्ति है।

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह: Photo - Social Media

मनमोहन सिंह की शिक्षा (Manmohan Singh's Education)

मनमोहन सिंह ने हिंदू कॉलेज, अमृतसर, पंजाब विश्वविद्यालय और होशियारपुर में शिक्षा ग्रहण की है। उन्होंने 1952 में ग्रेजुएट और 1954 में मास्टर डिग्री प्राप्त की। वे हमेशा फर्स्ट डिवीजनर रहे। मास्टर्स करने के बाद वे ब्रिटेन चले गए और उन्होंने 1957 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के सेंट जॉन्स कॉलेज से अर्थशास्त्र की पढ़ाई की।

कैम्ब्रिज में पढ़ाया भी

कैंब्रिज में मनमोहन सिंह ने शिक्षण कार्य भी किया। वे अर्थशास्त्र के वरिष्ठ व्याख्याता (1957-1959), रीडर (1959-1963), प्रोफेसर (1963-1965) तथा अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के प्रोफेसर (1969-1971) रहे।कैम्ब्रिज में मनमोहन सिंह को कई सम्मान भी मिले। 1955 में राइट पुरस्कार, 1956 में एडम स्मिथ पुरस्कार, 1957 में व्रेनबरी स्कॉलर के रूप में चयन तथा 1982 में मानद फेलो। कैम्ब्रिज के बाद, मनमोहन सिंह भारत लौट आए और पंजाब विश्वविद्यालय में एक शिक्षक के रूप में सेवा की। 1960 में, वह डी.फिल के लिए ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय गए, जहां वे नफिल्ड कॉलेज में पढ़े।

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह: Photo - Social Media

शिक्षकों का आभार

2005 में ब्रिटिश पत्रकार मार्क टुली के साथ एक साक्षात्कार में मनमोहन सिंह ने अपने कैम्ब्रिज दिनों के बारे में कहा था कि - मैं पहली बार मानवीय मामलों को आकार देने में राजनीति की रचनात्मक भूमिका के प्रति जागरूक हुआ, और इसका श्रेय ज्यादातर मेरे शिक्षकों जोन रॉबिन्सन और निकोलस कलडोर को जाता है। जोन रॉबिन्सन एक शानदार शिक्षिका थीं, उन्होंने अपने छात्रों के आंतरिक विवेक को इस तरह से जगाने की भी कोशिश की, जिसे बहुत कम लोग हासिल कर पाए। उसने मुझसे बहुत सवाल किया और मुझे अकल्पनीय सोचने पर मजबूर कर दिया।

उन्होंने कीन्स की वामपंथी व्याख्या को प्रतिपादित किया, यह कहते हुए कि यदि आप वास्तव में सामाजिक समानता के साथ विकास को जोड़ना चाहते हैं तो राज्य को अधिक भूमिका निभानी होगी। कलडोर ने मुझे और भी अधिक प्रभावित किया; मैंने उन्हें व्यावहारिक, शानदार, उत्तेजक पाया। जोआन रॉबिन्सन चीन में जो कुछ हो रहा था, उसके बहुत बड़े प्रशंसक थे, लेकिन कालडोर ने केनेसियन विश्लेषण का उपयोग यह प्रदर्शित करने के लिए किया कि पूंजीवाद को काम में लाया जा सकता है।

कुछ कैम्ब्रिज के बारे में

कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय यूनाइटेड किंगडम में 1209 में स्थापित हुआ था और 1231 में हेनरी तृतीय द्वारा इसे एक शाही चार्टर प्रदान किया गया। कैम्ब्रिज अंग्रेजी भाषी दुनिया का दूसरा सबसे पुराना विश्वविद्यालय और दुनिया का तीसरा सबसे पुराना जीवित विश्वविद्यालय है। ये विश्वविद्यालय विद्वानों के एक ग्रुप द्वारा विकसित किया गया जिन्होंने शहरवासियों के साथ विवाद के बाद ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय छोड़ दिया था। ऑक्सफोर्ड और कैम्ब्रिज, दो अंग्रेजी प्राचीन विश्वविद्यालय कई समान विशेषताएं साझा करते हैं और इन्हें अक्सर संयुक्त रूप से ऑक्सब्रिज कहा जाता है। कैम्ब्रिज को दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में स्थान दिया गया है।

Shashi kant gautam

Shashi kant gautam

Next Story