×

भारतीय वायु सेना में आवेदन कर बनाएं बेहतर अपना कॅरियर

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 29 Dec 2017 9:41 AM GMT

भारतीय वायु सेना में आवेदन कर बनाएं बेहतर अपना कॅरियर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: भारतीय वायु सेना ने योग्य और इच्छुक आवेदकों से एयर फोर्स कॉमन एडमिशन टेस्ट -2018 (एएफसीएटी-2018) के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। जानकारी के बताना जरुरी है कि यह टेस्ट लाइंग ब्रांच में शॉर्ट सर्विस कमिशन और टेक्निकल एवं ग्राउंड ड्यूटी ब्रांचेज में पर्मानेंट/शॉर्ट सर्विस कमीशन की ग्रांट के लिए आयोजित करवाया जाता है। वायु सेना की ओर से यह आवेदन सत्र जनवरी 2019 के लिए मंगवाए गए हैं। ऑनलाइन आवेदन फॉर्म 16 दिसंबर 2017 से मिलने शुरू हो चुके हैं। 14 जनवरी 2018 तक इच्छुक और योग्य आवेदक इसके लिए आवेदन फॉर्म भर सकते हैं।

क्या है आयु सीमा : इसके लिए आवेदकों की उम्र 1 जनवरी 2019 को 20 से 24 वर्ष होनी चाहिए। वहीं, टेक्निकल ब्रांच के लिए आवेदकों की उम्र 1 जनवरी 2019 को 20 से 26 साल होनी चाहिए यानी उनका जन्म 2 जनवरी 1993 से 1 जनवरी 1999 के बीच होना चाहिए। इसमें यह दोनों तारीखें भी शामिल हैं। ग्राउंड ड्यूटी ब्रांच के लिए उम्र 1 जनवरी 2019 को 20 से 26 साल होनी चाहिए यानी उनका जन्म 2 जनवरी 1993 से 1 जनवरी 1999 के बीच होना चाहिए। निर्धारित तिथि से कम या ज्यादा उम्र के अभियार्थी इसके लिए योग्य नहीं हैं।

चयन प्रक्रिया : जो आवेदक आवेदन की अंतिम तिथि तक आवेदन कर देंगे, उन्हें एएफसीएटी के लिए बुलाया जाएगा। यह एंट्रेंस टेस्ट 2 घंटे की अवधि का होगा और इसमें वर्बल एबिलिटी, न्यूमेरिकल एबिलिटी, रीजनिंग, जनरल अवेयरनेस एवं मिलिट्री एप्टीट्यूड पर मल्टीपल चॉइस सवाल पूछे जाएंगे। एएफसीएटी के तुरंत बाद इंजीनियरिंग नॉलेज टेस्ट (ईकेटी) का आयोजन करवाया जाएगा। ईकेटी 45 मिनट की अवधि का होगा। एएफसीएटी के आधार पर शॉर्टलिस्ट किए गए आवेदकों को आगे की टेस्टिंग के लिए एयर फोर्स सिलेक्शन बोर्ड में बुलाया जाएगा। यह बोर्ड देहरादून, मैसूर, गांधीनगर और वाराणसी में हैं। शॉर्टलिस्टेड आवेदकों को इनमें से एक बोर्ड सेंटर पर बुलाया जाएगा।

लाइंग ब्रांच के लिए योग्यता : वायु सेना की लाइंग ब्रांच के लिए जरूरी है कि आवेदकों ने किसी भी मान्य यूनिवर्सिटी से किसी भी विषय में कम से कम 3 साल का स्नातक डिग्री कोर्स किया हो। ग्रेजुएशन में आवेदकों के न्यूनतम 60 प्रतिशत अंक होने जरूरी हैं। इसके साथ ही जरूरी है कि आवेदकों ने 12वीं कक्षा में मैथ्स और फिजिक्स पास की हों या किसी मान्य यूनिवर्सिटी से न्यूनतम 60 प्रतिशत माक्र्स के साथ बीई/बीटेक की डिग्री हासिल की हो। याद रखें कि जो आवेदक पहले पायलट एप्टीट्यूड बैटरी टेस्ट में फेल हो गए हों या जो लाइट कैडेट एयर फोर्स एकेडमी में लाइंग ट्रेनिंग से सस्पेंड हो चुके हों, वह आवेदन करने के लिए योग्य नहीं होंगे।

ग्राउंड ड्यूटी के लिए योग्यता : इसमें एडमिनिस्ट्रेशन और लॉजिस्टिक्स के लिए आवेदकों के पास न्यूनतम 60 प्रतिशत अंकों के साथ 3 साल की ग्रेजुएट डिग्री या 50 प्रतिशत मार्क्स के साथ पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री या समकक्ष डिप्लोमा होना जरूरी है। अकाउंट्स के लिए आवेदकों के पास न्यूनतम 60 प्रतिशत माक्र्स के साथ कॉमर्स में 3 साल की ग्रेजुएट डिग्री (बीकॉम) या न्यूनतम 50 प्रतिशत माक्र्स के साथ कॉमर्स में पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री (एमकॉम)/ सीए/ आईसीडब्ल्यूए होनी जरूरी है। एजुकेशन के लिए आवेदकों के पास किसी भी विषय में न्यूनतम 50 प्रतिशत माक्र्स के साथ पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री होनी अनिवार्य है।

जरूरी तकनीक योग्यता : एयरोनॉटिकल इंजीनियर (इलेक्ट्रॉनिक्स) ब्रांच के लिए आवेदन करने वाले आवेदकों को तभी योग्य माना जाएगा अगर उन्होंने कम से कम चार साल की डिग्री हासिल की हो या इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड टेलीक यूनिकेशन इंजीनियर्स की एसोसिएट मेंबरशिप एग्जामिनेशन की सेक्शन ए और बी परीक्षाएं पास की हों। इन आवेदकों के न्यूनतम 60 प्रतिशत माक्र्स होने जरूरी हैं। वहीं, एयरोनॉटिकल इंजीनियर (मेकेनिकल) के लिए जरूरी है कि आवेदकों ने कम से कम चार साल की डिग्री हासिल की हो या एसोसिएट मेंबरशिप ऑफ इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स (इंडिया) या एयरोनॉटिकल सोसायटी ऑफ इंडिया की सेक्शन ए और बी परीक्षाएं पास की हों। आवेदकों के न्यूनतम 60 प्रतिशत माक्र्स होने जरूरी हैं।

ऐसे होती है आवेदन प्रक्रिया : भारतीय वायु सेना में आवेदन करने के इच्छुक आवेदक इसकी कॅरियर भारतीय वायुसेना की वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। आवेदन करने के साथ ही आवेदकों को एग्जामिनेशन फीस के रूप में केवल 250 रुपए जमा करवाने होंगे। इसके साथ ही आवेदकों को अपनी कलर पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ अपलोड करनी होगी। एएफसीएटी 2018 के लिए देशभर के 61 शहरों में सेंटर्स बनाए जाएंगे। एएफसीएटी सेंटर्स को फस्र्ट कम फस्र्ट आधार पर दिया जाएगा। एक बार सेंटर अलॉट होने के बाद उसमें कोई बदलाव नहीं किया जाएगा। याद रखें कि आवेदन करने से पहले सभी दिशा-निर्देशों को सही ढंग से पढ़ लें। आवेदन के अभ्यर्थी वायुसेना की वेबसाइट देख सकते हैं- indianairforce.nic.in

Newstrack

Newstrack

Next Story