×

न सुर न ताल ! संघ के मोहन ने ऐसी बजाई बंसी, मच गया बवाल

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 12 Feb 2018 12:33 PM GMT

न सुर न ताल ! संघ के मोहन ने ऐसी बजाई बंसी, मच गया बवाल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत की युद्ध के लिए भारतीय सेना की मुस्तैदी को लेकर की गई टिप्पणी ने विपक्षी दलों के बीच नाराजगी बढ़ा दी है। साथ ही भगवा संगठन ने कहा कि इस टिप्पणी को 'तोड़-मरोड़' कर पेश किया गया है। सोशल मीडिया पर विपक्षी कांग्रेस और वाम दलों ने भागवत से भारतीय सेना के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी के लिए माफी मांगने की मांग की है। वहीं आरएसएस ने एक बयान में कहा कि भागवत ने सेना की तुलना अपने संगठन से नहीं की।

आरएसएस ने एक बयान में कहा कि भागवत ने रविवार को मुजफ्फरपुर में एक सभा में कहा था कि युद्ध की स्थिति में भारतीय सेना को समाज को तैयार करने में छह महीने का वक्त लगेगा, जबकि आरएसएस के स्वंयसेवकों को केवल तीन दिन में तैयार किया जा सकता है, क्योंकि स्वंयसेवक रोजाना अनुशासन का अभ्यास करते हैं।

आरएसएस प्रवक्ता मनमोहन वैद्य ने कहा, "यह भारतीय सेना और संघ कार्यकर्ताओं के बीच तुलना नहीं है। यह आम समाज और स्वंयसेवकों के बीच की तुलना है। दोनों को ही केवल भारतीय सेना प्रशिक्षित कर सकती है।"

आरएसएस प्रमुख 10 दिवसीय बिहार दौरे पर हैं। रविवार को उन्होंने कहा था कि अगर लड़ाई की स्थिति उत्पन्न होती है और संविधान इजाजत देता है तो संघ देश के लिए लड़ने वालों की सेना तीन दिन में तैयार कर सकता है।

ये भी देखें : भागवत ने सेना की तुलना अपने संगठन से नहीं की : आरएसएस

मुजफ्फरपुर में जिला स्कूल परिसर में आरएसएस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भागवत ने कहा, "संघ तीन दिन में सेना तैयार कर सकता है और यही काम करने में थल सेना को छह से सात महीने लगेंगे। यह हमारी क्षमता है। देश के सामने यदि ऐसी स्थिति आती है और संविधान इजाजात देता है तो स्वंयसेवक सीमा पर लड़ने के लिए तैयार रहेंगे।"

उन्होंने कहा, "आरएसएस कोई सैन्य संगठन नहीं है, लेकिन हमारे पास सेना जैसा अनुशासन है। अगर देश को जरूरत होगी और संविधान इसकी इजाजत देता है, तो संघ दुश्मनों के खिलाफ सीमा पर लड़ने के लिए तैयार है।"

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि भागवत का भाषण हर भारतीय का अपमान करने वाला है, क्योंकि यह हमारे राष्ट्र के लिए अपनी जान गंवाने वालों का अनादर करता है।

उन्होंने कहा, "यह हमारे ध्वज का अपमान है, क्योंकि हर उस सैनिक का अपमान है, जो ध्वज को नमन करता है। हमारी सेना और हमारे शहीदों का अनादर करने के लिए भागवत आपको शर्म आनी चाहिए।"

कांग्रेस सांसद गौरव गोगोई ने कहा कि यह टिप्पणी गंभीर रूप से असंवेदनशील है, विशेषकर तब, जब जम्मू एवं कश्मीर में सेना आतंकियों से लड़ रही है। हमारी सेना दुनिया में सबसे बहादुर है। आरएसएस को माफी मांगनी चाहिए।

ये भी देखें : आरएसएस सीमा पर लड़ने को तैयार : कह रहे हैं मोहन भागवत

माकपा नेता और केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने कहा कि भारतीय सेना पर भागवत की टिप्पणी संवैधानिक औचित्य के खिलाफ है।

माकपा नेता ने कहा, "उनका बयान राष्ट्रीय एकता को नष्ट करने, कहर बरपाने के लिए समानांतर लड़ाकों को तैयार करने के संघ के छिपे एजेंडे को उजागर करता है। समानांतर सेना के बारे में बात करने को लेकर हम हमेशा से चेताता रहे हैं। हिंदू आंतक।"

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story