×

इस दिन होगी सैटेलाइट कार्टोसैट-3 की लॉन्चिंग, बाज की तरह रखेगा दुश्मन पर नजर

इसरो ने 25 नवंबर को कार्टोसैट-3 सैटेलाइट लॉन्च करने की घोषणा की थी, लेकिन अब इसकी लॉन्चिंग 25 को ना होकर 27 नवंबर को होगी। इस मिलिट्री जासूसी उपग्रह को छोड़ने के लिए पीएसएलवी-सी47 रॉकेट तैयार हो चुका है।

suman

sumanBy suman

Published on 25 Nov 2019 5:27 PM GMT

इस दिन होगी सैटेलाइट कार्टोसैट-3 की लॉन्चिंग, बाज की तरह रखेगा दुश्मन पर नजर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

जयपुर: इसरो ने 25 नवंबर को कार्टोसैट-3 सैटेलाइट लॉन्च करने की घोषणा की थी, लेकिन अब इसकी लॉन्चिंग 25 को ना होकर 27 नवंबर को होगी। इस मिलिट्री जासूसी उपग्रह को छोड़ने के लिए पीएसएलवी-सी47 रॉकेट तैयार हो चुका है। इसे एसेंबलिंग यूनिट से लॉन्चपैड-2 के लिए रवाना कर दिया गया है।

इस सैटेलाइट का नाम है -कार्टोसैट-3। यह कार्टोसैट सीरीज का नौवां सैटेलाइट होगा। कार्टोसैट-3 का कैमरा इतना ताकतवर है कि वह अंतरिक्ष से जमीन पर 1 फीट से भी कम (9.84 इंच) की ऊंचाई तक की तस्वीर ले सकेगा। मतलब हाथ पर बंधी घड़ी पर दिख रहे सही समय की भी सटीक जानकारी देगा।

यह पढ़ें...हो गया बड़ा खुलासा, अजित पवार ने राज्यपाल को दी चिट्ठी में लिखी थी ये बातें

अब तक इतनी बारिकी से दिखने वाला सैटेलाइट कैमरा किसी देश ने लॉन्च नहीं किया है। अमेरिका की निजी स्पेस कंपनी डिजिटल ग्लोब का जियोआई-1 सैटेलाइट 16.14 इंच की ऊंचाई तक की तस्वीरें ले सकता है।

पाकिस्तान पर हुए सर्जिकल और एयर स्ट्राइक पर कार्टोसैट उपग्रहों की मदद ली गई थी।इसके अलावा विभिन्न प्रकार के मौसम में पृथ्वी की तस्वीरें लेने में सक्षम। प्राकृतिक आपदाओं में मदद करेगा।कार्टोसैट सीरीज का पहला सैटेलाइट कार्टोसैट-1 पांच मई 2005 को पहली बार लॉन्च किया गया था। 10 जनवरी 2007 को कार्टोसैट-2, 28 अप्रैल 2008 को कार्टोसैट-2ए, 12 जुलाई 2010 को कार्टोसैट-2बी, 22 जून 2016 को कार्टोसैट-2 सीरीज सैटेलाइट, 15 फरवरी 2017 को कार्टोसैट-2 सीरीज सैटेलाइट, 23 जून 2017 को कार्टोसैट-2 सीरीज सैटेलाइट और 12 जनवरी 2018 को कार्टोसैट-2 सीरीज सैटेलाइट लॉन्च किए गए।

यह पढ़ें...विकास कार्यो की समीक्षा बैठक के लिए CM योगी 26 नवंबर की शाम वाराणसी पहुंचेंगे

इस कार्टोसैट-3 सैटेलाइट को 27 नवंबर को सुबह 9.28 बजे इसरो के श्रीहरिकोटा द्वीप पर स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से छोड़ा जाएगा। इसे पृथ्वी से 509 किलोमीटर की ऊंचाई पर स्थापित किया जाएगा। 6 स्ट्रैपऑन्स के साथ पीएसएलवी की 21वीं उड़ान होगी. जबकि, पीएसएलवी की 74वीं उड़ान होगी। कार्टोसैट-3 के साथ अमेरिका के 13 अन्य नैनो सैटेलाइट भी छोड़े जाएंगे।

suman

suman

Next Story