मोदी राज में अंतरिक्ष में भी सुनाई देगी धमक, सुपरपावर बनेगा भारत

अंतरिक्ष में भारत अपना कदम तेजी से बढ़ा रहा है। भारत अब अपना स्टेशन लॉन्च करने की तैयारी में है। इसरो प्रमुख के सिवन ने गुरुवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यह गगनयान मिशन का विस्तार होगा।

नई दिल्ली: अंतरिक्ष में भारत अपना कदम तेजी से बढ़ा रहा है। भारत अब अपना स्टेशन लॉन्च करने की तैयारी में है। इसरो प्रमुख के सिवन ने गुरुवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यह गगनयान मिशन का विस्तार होगा।

इसरो प्रमुख ने बताया, ‘ह्यूमन स्पेस मिशन के बाद हमें गगनयान प्रोग्राम को बनाए रखना होगा। ऐसे में भारत अपना खुद का स्पेस स्टेशन बनाने की तैयारी कर रहा है।’ भारत ने इसका लक्ष्य 2030 तक रखा है।

यह भी पढ़ें…AN-32 विमान हादसा: CM योगी प्राण गंवाने वाले वीर वायु सेना कर्मियों को दी श्रद्धांजलि

इससे पहले सरकार और इसरो ने संयुक्त रूप से जानकारी दी कि 15 जुलाई को लॉन्च होने वाले मिशन चंद्रयान-2 के साथ ही भारत की नजर अब वीनस (शुक्र) और सूर्य तक है। मिशन चंद्रयान की कुल लागत 10000 करोड़ होगी।

भारत के महत्वाकांक्षी स्पेस प्रॉजेक्ट के बारे में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पिछले कुछ वक्त में भारत ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में कई सिद्धि प्राप्त की है। इसरो चेयरमैन ने भविष्य की योजनाओं के बारे में बताया कि भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान ने सूर्य, वीनस जैसे ग्रहों तक पहुंचने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

यह भी पढ़ें…बीजेपी की ऐतिहासिक जीत के बाद शिवराज सिंह चौहान को मिली ये बड़ी जिम्मेदारी

बता दें कि गगनयान योजना के तहत भारत 2022 में अंतरिक्षयात्रियों को स्पेस में भेजने वाला है। पिछले साल 15 अगस्त के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने इसकी घोषणा की थी। यह पहली बार होगा जब कोई भारतीय अंतरिक्षयात्री भारतीय मिशन के तहत अंतरिक्ष में कदम रखेगा।