आचार संहिता उल्लंघन के आरोप में महाराष्ट्र में भाजपा नेता के खिलाफ जांच

देशमुख ने सांगली जिले के मिराज शहर में बुधवार को भाजपा, शिवसेना और आरपीआई (ए) कार्यकर्ताओं की एक संयुक्त सभा को संबोधित करते हुए एक पार्टी कार्यकर्ता से कहा था कि अगर भाजपा सांसद संजयकाका पाटिल आसन्न लोकसभा चुनाव में दोबारा निर्वाचित होते हैं तो उन्हें पांच लाख रुपये या उससे अधिक देंगे।

मुंबई: निर्वाचन आयोग (ईसी) ने कथित तौर पर आचार संहिता उल्लंघन के मामले में भाजपा के सांगली जिला इकाई अध्यक्ष पृथ्वीराज देशमुख के खिलाफ जांच शुरू की है। अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी।

ये भी देखें:बिहार में इन सीटों पर बीजेपी और आरजेडी के बीच होगा मुकाबला

देशमुख ने सांगली जिले के मिराज शहर में बुधवार को भाजपा, शिवसेना और आरपीआई (ए) कार्यकर्ताओं की एक संयुक्त सभा को संबोधित करते हुए एक पार्टी कार्यकर्ता से कहा था कि अगर भाजपा सांसद संजयकाका पाटिल आसन्न लोकसभा चुनाव में दोबारा निर्वाचित होते हैं तो उन्हें पांच लाख रुपये या उससे अधिक देंगे।

उनके भाषण का एक वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है।

अपने भाषण के दौरान देशमुख ने कहा कि सांगली सीट जीतना आसान नहीं है। पाटिल यहां से मौजूदा सांसद हैं।

भीड़ में से जब किसी ने देशमुख से पूछा कि अगर पाटिल फिर से चुन लिये जाते हैं तो वह उन्हें क्या देंगे, इस पर उन्होंने कहा, ‘‘आपको पांच लाख या उससे अधिक मिलेंगे।’’

लेकिन उन्होंने यह भी कहा, ‘‘मजाक अलग बात है, संजय पाटिल ने यहां मिराज में सड़क, राजमार्ग, रेलवे और अन्य बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के विकास कार्य के लिये कोष हासिल कर काफी अच्छा काम किया है।’’

पीटीआई-भाषा से बात करते हुए सांगली के जिलाधिकारी अभिजीत चौधरी ने कहा कि चुनाव आयोग ने देशमुख के भाषण को लेकर मीडिया में आयी खबरों पर संज्ञान लिया है।

उन्होंने कहा, ‘‘उनके भाषण के फुटेज को सहायक निर्वाचन अधिकारी को भेज दिया गया है, जो अब इसका अध्ययन कर रहे हैं। जांच पूरी होने के बाद आगे की कार्रवाई की जायेगी।’’

राकांपा प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि आगे की जांच की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि देशमुख का भाषण सोशल मीडिया पर पहले ही वायरल हो चुका है जिसमें वह साफ-साफ लोगों को रिश्वत देने की पेशकश करते दिख रहे हैं।

ये भी देखें:जेटली ने आयकर छापों के विरोध में प्रदर्शन करने पर जेडीएस, कांग्रेस की आलोचना की

उन्होंने कहा, ‘‘कार्रवाई के लिये और क्या सबूत चाहिए? यह तो साफ-साफ आचार संहिता का उल्लंघन है। यह हमारे उस रुख को साबित करता है कि भाजपा धन के बल पर चुनाव लड़ रही है।’’

(भाषा)