×

Fact about Life: क्या मौत के बाद भी जीवन संभव है, वैज्ञानिकों का चौंका देने वाला दावा

Is Life After Death Possible: हाल ही में वैज्ञानिकों ने बुधवार को एक ऐसा ही चौंकाने वाला दावा किया है जिसपर विश्वास करना मुश्किल हो सकता है।बुधवार को वैज्ञानिकों ने मौत के बाद भी जीवन संभव होने का दावा किया है।

Anupma Raj
Updated on: 5 Aug 2022 2:12 AM GMT
Is Life After Death Possible
X

Is Life After Death Possible (Image: Social Media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
Click the Play button to listen to article

Is Life After Death Possible: टेक्नोलॉजी और रिसर्च की दुनिया ने कई ऐसी चीजों को संभव कर दिखाया है जिसकी हम सबने कभी कल्पना भी नहीं की होगी। हाल ही में वैज्ञानिकों ने बुधवार को एक ऐसा ही चौंकाने वाला दावा किया है , जिसपर विश्वास करना मुश्किल हो सकता है। दरअसल बुधवार को वैज्ञानिकों ने मौत के बाद भी जीवन संभव होने का दावा किया है। यह दावा वैज्ञानिकों ने सुअर पर किए गए रिसर्च के जरिए किया है।

दरअसल वैज्ञानिकों का कहना है कि एक घंटे के लिए मृत सूअरों के पूरे शरीर में रक्त प्रवाह और कोशिका कार्य को बहाल कर दिया गया, इसका मतलब यह हो सकता है कि हमें मृत्यु की परिभाषा को अपडेट करने की आवश्यकता है। यानी मौत के बाद भी जीवन संभव हो सकता है। इसको लेकर वैज्ञानिकों ने जो दावा किया है वह वाकई चौकाने वाला है। वैज्ञानिकों ने दावा करते हुए कहा कि इस खोज ने मनुष्यों में एक उम्मीद जगाई है। उन्होंने यह शोध करने के लिए एक विशेष मशीन और ऑक्सीजन और अन्य घटकों को ले जाने वाले सिंथेटिक तरल पदार्थ का इस्तेमाल किया जो सेलुलर स्वास्थ्य को बढ़ावा देते थे और सूजन को दबाते थे। शोधकर्ताओं ने कहा कि वे कुछ नुकसान को कम करने में सक्षम थे। वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि किसी दिन तकनीक का इस्तेमाल किसी ऐसे व्यक्ति के जीवन के लिए भी किया जा सकता है जिसकी मृत्यु तुरंत हुई हो। हालांकि ऐसा करने के लिए बहुत अधिक प्रयोग की आवश्यकता होगी।

अब ऐसे में ये सवाल उठता है कि क्या मौत होने के बाद भी किसी व्यक्ति को दोबारा जिंदा किया जा सकता है? हालांकि इस बात का उत्तर देना अभी भी संभव नहीं है क्योंकि विज्ञान भी संभावनाओं की तलाश पर ही चलता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि अभी फिलहाल इस पर गहराई से शोध करने की जरूरत होगी क्योंकि यह बिल्कुल भी आसान नहीं होगा। इसके लिए कई साल भी लग सकते हैं, जिसके लिए बहुत अधिक प्रयोग की भी जरूरत होगी। हालांकि यह उम्मीद जताई जा सकती हैं कि भविष्य में कुछ ऐसा आविष्कार कर वैज्ञानिकों द्वारा किया जा सकता है, जो ठप पड़ गई बॉडी को दोबारा मेंटेन करके उसे जिंदा कर सके।।अब यहां पर दो विचारों मन में आते हैं। जीवन को लेकर अगर विज्ञान की इस धारणा को देखें तो चेतना और अस्तित्व जैसी कोई चीज नहीं होती। वहीं धर्म की मानें तो व्यक्ति के जिंदा रहने के पीछे चेतना का अहम योगदान है। अब सच क्या है? ये अब तक कोई नहीं जान पाया है। इस सवाल का उत्तर अब तक किसी के पास नहीं है।


Anupma Raj

Anupma Raj

Next Story