×

सिखों को 84 के दंगों के लिए न्याय कब मिलेगा : सुखदेव सिंह

Rishi
Updated on: 7 Feb 2018 11:40 AM GMT
सिखों को 84 के दंगों के लिए न्याय कब मिलेगा : सुखदेव सिंह
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली : शिरोमणि अकाली दल ने बुधवार को 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद भड़के सिख विरोधी दंगों के लिए राज्यसभा में न्याय की मांग उठाई। शिअद ने यह मांग कांग्रेस नेता जगदीश टाइटलर के खिलाफ नए साक्ष्य सामने आने के बाद उठाई है। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी के अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके द्वारा जारी किए गए एक कथित वीडियो में वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिल्ली व अन्य जगहों पर सिखों की हत्या के बारे में कुछ खुलासा करते हुए दिख रहे हैं। इस वीडियो का जिक्र करते हुए सुखदेव सिंह ढिंडसा ने कहा, "सिखों को न्याय कब मिलेगा?"

उन्होंने कहा, "वे बीते 34 सालों से न्याय का इंतजार कर रहे हैं।"

कांग्रेस सदस्यों ने ढिंडसा द्वारा इस मुद्दे को उठाए जाने पर आपत्ति जताई। कांग्रेस सदस्यों ने कहा कि यह मामला अदालत के विचाराधीन है, इसलिए इस पर सदन में चर्चा नहीं हो सकती।

ये भी देखें :1984 में हुए सिख दंगों की जांच के लिए नई SIT गठित, एसएन ढींगरा होंगे चीफ

लेकिन, सभापति एम.वेंकैया नायडू ने कांग्रेस सदस्यों की आपत्ति को खारिज कर दिया।

कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने सभापति के आदेश पर आपत्ति जताते हुए कहा, "नियम इस मुद्दे को उठाने की इजाजत नहीं देता है। यह अदालत के समक्ष विचाराधीन है।"

इस पर जवाब देते हुए नायडू ने कहा, "ढिंडसा मुझसे मेरे कक्ष में मिले थे और सीडी दिखाई थी। इसके बाद मैंने मामले को उठाने की इजाजत दी।"

उन्होंने कहा, "मैंने उनसे कहा था कि सीडी की प्रमाणिकता साबित करने की जरूरत है।"

कांग्रेस सदस्यों के विरोध के बीच ढिंडसा ने कहा, "कांग्रेस नेता ने नरसंहार का गुनाह स्वीकार किया है।"

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story