×

फरार 2000 कैदी: दिल्ली पुलिस को सौपी गई कैदियों की डिटेल, जल्द शुरू ढूंढने का काम

देश के तमाम राज्यों ने बीते साल जेल में बंद कैदियों को पैरोल पर छोड़ दिया था। ऐसे में दिल्ली के तिहाड़ जेल समेत कई जेलों में बंद हजारों कैदियों को भी छोड़ा गया था। लेकिन अब एक साल बाद जो भी कैदी पैरोल पर छोड़े गए थे, लगभग 2000 कैदी अभी तक जेल में वापस नहीं लौटे हैं। 

Newstrack
Published on: 24 March 2021 9:54 AM GMT
फरार 2000 कैदी: दिल्ली पुलिस को सौपी गई कैदियों की डिटेल, जल्द शुरू ढूंढने का काम
X
कोरोना महामारी के दौर में राज्य सरकारों को जेल में बंद कैदियों को पैरोल पर छोड़ने के निर्देश दिये थे। राज्यों ने जेल में बंद कैदियों को पैरोल पर छोड़ दिया था।
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने बीते साल कोरोना महामारी के दौर में राज्य सरकारों को जेल में बंद कैदियों को पैरोल पर छोड़ने के निर्देश दिये थे। जिसके चलते देश के तमाम राज्यों ने जेल में बंद कैदियों को पैरोल पर छोड़ दिया था। ऐसे में दिल्ली के तिहाड़ जेल समेत कई जेलों में बंद हजारों कैदियों को भी छोड़ा गया था। लेकिन अब एक साल बाद जो भी कैदी पैरोल पर छोड़े गए थे, लगभग 2000 कैदी अभी तक जेल में वापस नहीं लौटे हैं।

ये भी पढ़ें...कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर केंद्र ने राज्यों को त्योहारों पर सख्ती बरतने के दिए निर्देश

2000 कैदी फरार

जिसके चलते तिहाड़ जेल प्रशासन अब नोटिस जारी किया है। ऐसे में तिहाड़ जेल के अनुसार, कैदी या तो जानबूझ कर वापस नहीं आना चाहते हैं या फिर वह भाग गए हैं। फिलहाल अब तिहाड़ जेल प्रशासन ने इन कैदियों की डिटेल दिल्ली पुलिस से शेयर की है।

jail फोटो-सोशल मीडिया

साथ ही इन 2 हजार कैदियों की पूरी जानकारी दिल्ली पुलिस मुख्यालय भेजी गई है। जिसके बाद से दिल्ली पुलिस ने अब इन मामलों में कानूनी कार्रवाई भी शुरू कर दी है। इस बारे में ऐसा माना जा रहा है कि अगले कुछ दिनों में इन भगोड़े कैदियों की ढूंढने का काम शुरू हो जाएगा।

ये भी पढ़ें...हरिद्वार कुंभ में आने वाले सभी लोगों को RT-PCR टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट दिखाना अनिवार्य: उत्तराखंड हाईकोर्ट

7 हजार कैदियों को इमरजेंसी पैरोल

बीते साल तिहाड़ जेल में बंद 18 हजार से अधिक कैदियों में से करीब 7 हजार कैदियों को इमरजेंसी पैरोल और जमानत पर छोड़ा गया था। वहीं इन कैदियों को इसलिए छोड़ा गया था, क्योंकि देश में कोरोना के मामले में तेजी आई गई थी। जिससे जेल में कोरोना न फैला।

बीते साल तिहाड़ जेल में बंद बुजुर्ग और बीमार कैदियों को पैरोल पर उनके घर के लिए भेज दिया गया था। बता दें, जेल प्रशासन ने इसलिए ऐसा किया जिससे जेल में अगर कोरोना फैलता है तो इन बुजुर्ग और बीमार कैदियों को वायरस के चपेट में आने से बचाया जाए।

ये भी पढ़ें...ISSF शूटिंग वर्ल्ड कप: महिलाओं की 25 मीटर पिस्टल में भारत की चिंकी यादव ने जीता गोल्ड मेडल

Newstrack

Newstrack

Next Story