जेईई के लिए सही रणनीति के साथ टाइम मैनेजमेंट भी जरूरी

Published by seema Published: January 27, 2018 | 1:55 pm
Modified: January 27, 2018 | 1:58 pm

जेईई के लिए सही रणनीति के साथ टाइम मैनेजमेंट भी जरूरी

नई दिल्ली। किसी भी परीक्षा की तैयारी करने वाले हर छात्र को सबसे अधिक और बार-बार दी जाने वाली सलाह है-समय प्रबंधन यानी टाइम मैनेजमेंट। जेईई की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए यह और अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है, क्योंकि इसमें समय बहुत कम बचा है और पाठन सामग्री अधिक है। छात्रों को बहुत अधिक पढ़ाई करनी है। टाइम मैनेजमेंट इससे जुड़े एक्सपर्ट की मानें तो सही दिनचर्या बनाने और उसका पालन करने से बहुत अधिक मदद मिल सकती है। टाइम मैनेजमेंट में पढ़ाई करने का सही समय का चयन बेहद महत्वपूर्ण होता है, साथ ही चयनित समय के अनुसार विषयों की प्राथमिकता को तय करना भी जरूरी होता है कि कौन सा विषय किस समय पढ़ा जाए ताकि समय का पूरा सदुपयोग किया जा सके। जानते हैं इन्हीं कुछ बिंदुओं के बारे में ताकि आप इस परीक्षा में सफल हो सकें।

सहयोगियों के साथ करें चर्चा 
जेईई के माध्यम से देश के टॉप इंजीनियरिंग में संस्थानों में दाखिला मिलता है। इनमें प्रवेश पाना जितना ही सम्मानजनक है, उतना ही चुनौतीपूर्ण भी है। जेईई को क्वालीफाई करना यानी आईआईटी की प्रवेश परीक्षा में सफल होने के लिए अच्छी गणितीय क्षमता, फिजिक्स और केमिस्ट्री के महत्वपूर्ण टॉपिक्स की पहचान और समझ, कड़ी मेहनत, लगातार अभ्यास, तेज गति से प्रश्न हल करने और उत्तर देने का अभ्यास, अपने सहपाठियों एवं अध्यापकों से इस बारे में विस्तार से चर्चा आदि बहुत उपयोगी होती है। आईआईटी-जेईई की तैयारी के दौरान कुछ ऐसी चीजें भी होती हैं जिन पर आप विशेष ध्यान देकर अपनी सफलता की राह आसानी से पा सकते हैं।

स्टडी मैटेरियल अच्छा हो
किसी भी परीक्षा को क्वालीफाई करने के लिए जितनी आपकी मेहनत की जरूरत होती है उतना महत्वपूर्ण स्टडी मैटेरियल भी होता है। आईआईटी जेईई टेस्ट के लिए विश्वसनीय और लक्षित स्टडी मैटेरियल्स को चुनना छात्रों की आम परेशानियों में से एक है क्योंकि परीक्षा की तैयारी के लिए समय कम होता है और स्टडी मैटेरियल ज्यादा। उस स्टडी मैटेरियल में कौन से ज्यादा काम के प्वॉइंट हैं और किस स्टडी मैटेरियल्स में ज्यादा समय देकर अच्छी प्रिपरेशन की जा सकती है, यह चुनना बेहद जरूरी होता है। अच्छे स्टडी मैटेरियल के लिए आप अपने सीनियर या किसी अच्छे टीचर की मदद ले सकते हैं। आप उन छात्रों से इस बारे में बात कर सकते हैं जो इस परीक्षा को क्वालीफाई कर चुके हैं। वे आपको सही सलाह दे सकते हैं।

सही रणनीति बनाएं
आईआईटी-जेईई परीक्षा अन्य परीक्षाओं की तुलना में अधिक कठिन है। इसलिए इसमें सफल होने के लिए हर छात्र को अच्छी रणनीति के साथ पढ़ाई करनी चाहिए। निर्धारित पाठ्यक्रम को ध्यान में रखते हुए अपनी पढ़ाई करनी चाहिए। कोशिश करनी चाहिए कि न्यूमेरिकल प्रॉब्लम्स को ज्यादा से ज्यादा सॉल्व करें। इसके कई फायदे हैं। इससे आपको न केवल अपनी गलतियों को पता चलेगा बल्कि आपका टाइम मैनेजमेंट भी सही होगा। साथ आप हर विषय के लिए अलग रणनीति बनाएं और कठिन विषय के लिए अधिक समय दें। अपने पाठ्यक्रम के मुश्किल भागों को लक्षित करें और उन पर फोकस करें और पिछले वर्ष के पेपर पैटर्न का विश्लेषण करें और इसी के अनुसार अपना स्टडी प्लान बनाएं।

लाइफस्टाइल पर भी ध्यान दें
किसी भी परीक्षा में सफल होने के लिए आपकी दिनचर्या भी महत्वपूर्ण होती है। इससे मूड सही रहता है। इसके साथ ही अपनी सेहत और नींद पर ध्यान देना चाहिए। साथ ही कोशिश करें कि तनाव न हो। इससे भी आपकी पढ़ाई सही होगी और सफलता के रास्ते पर आगे बढ़ते रहेंगे। साथ ही ऐसे दोस्त बनाएं जो आपकी पढ़ाई में मदद कर सकें। अगर आपके स्ट्रीम से दोस्त नहीं होंगे तो आपको मदद की जगह परेशानी हो सकती है। इसलिए इसका भी ध्यान रखना जरूरी है।

कमजोर विषयों पर ज्यादा ध्यान दें
जेईई परीक्षा के लिए कुछ छात्र 11वीं में दाखिला लेने के साथ ही तैयारी करना शुरू कर देते हैं क्योंकि इसमें 11वीं और 12वीं के फिजिक्स, मैथ्स और केमिस्ट्री विषयों पर फोकस करना जरूरी होता है, क्योंकि आईआईटी मेन प्रवेश परीक्षा स्नातक स्तर की पढ़ाई के लिए प्रवेश परीक्षा है। यदि आप आईआईटी मेन प्रवेश परीक्षा के लिए सपना देख रहे हैं तो आपको इन विषयों पर अधिक ध्यान देने की जरूरत रहती है। इसमें खास और ध्यान देने वाली बात यह होती है कि इसमें रटने की जगह विषयों को समझने की कोशिश करें। अगर आपके टॉपिक्स क्लीयर नहीं तो आपके लिए यह परीक्षा काफी जटिल हो जाएगी। आपके लिए परेशानी हो सकती है। इसलिए जब तक आपका टॉपिक क्लियर न हो आप प्रयास जरूर करें।