करणी सेना की दादागिरी के आगे झुके प्रसून जोशी, JLF में नहीं लेंगे हिस्सा

Published by aman Published: January 27, 2018 | 1:05 pm
Modified: January 27, 2018 | 4:13 pm
करणी सेना की दादागिरी के आगे झुके प्रसून जोशी, JLF में नहीं लेंगे भाग

जयपुर: फिल्म ‘पद्मावत’ को केंद्रीय फिल्म एवं प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) से मंजूरी मिलने के बाद करणी सेना के निशाने पर आए सीबीएफसी प्रमुख प्रसून जोशी ने इस संगठन से मिली धमकी के मद्देनजर जी जयपुर साहित्य महोत्सव (जेएलएफ) में शामिल नहीं होने का फैसला लिया है। याद करें, करणी सेना ने कहा था कि वह जोशी को जयपुर साहित्य महोत्सव में हिस्सा नहीं लेने देगा। प्रसून जोशी को ‘मैं और वो: कॉन्वर्सेशन्स विद माईसेल्फ’ नाम के एक सत्र में हिस्सा लेना था।

प्रसून जोशी ने एक बयान जारी कर कहा, ‘मैं इस बार जेएलएफ में भाग नहीं ले पा रहा हूं। साहित्य और कविता के प्रेमियों के साथ जेएलएफ में चर्चा और विचार-विमर्श इस वर्ष न कर पाने का दु:ख मुझे रहेगा, पर मैं नहीं चाहता कि मेरे कारण साहित्य प्रेमियों, आयोजकों और वहां आए अन्य लेखकों को कोई भी असुविधा हो और आयोजन अपनी मूल भावना से भटक जाए।’

ये भी पढ़ें …#JLF: सा​हित्यिक महाकुंभ का आगाज, 400 से ज्यादा बुद्धिजीवी करेंगे शिरकत

‘पद्मावत’ पर भी बोले जोशी
उन्होंने कहा, ‘रही बात फिल्म से जुड़े विवादों की, तो यहां मैं एक बार फिर यह कहना चाहता हूं कि फिल्म ‘पद्मावत’ को..नियमों के अंतर्गत सुझावों को जहां तक संभव हो सम्मिलित करते हुए, सकारात्मक सोच के साथ, भावनाओं का सम्मान करते हुए ही प्रमाणित किया गया है। यह पूरी निष्ठा से एक संतुलित और संवेदनशील निर्णय का प्रयास है।’

अब थोड़ा विश्वास भी रखना होगा
प्रसून ने आगे कहा, ‘अब थोड़ा विश्वास भी रखना होगा। विश्वास एक-दूसरे पर भी और हमारी स्वयं की बनाई प्रक्रियाओं और संस्थाओं पर भी। विवादों की जगह विचार-विमर्श को लेनी होगी, ताकि भविष्य में हमें इस सीमा तक जाने की आवश्यकता न पड़े।’

आईएएनएस