Top

Kashmir: घाटी में दो महीने में जले 25 स्कूल, हाईकोर्ट ने सरकार से कहा- इन्हें बचाएं

aman

amanBy aman

Published on 1 Nov 2016 11:27 AM GMT

Kashmir: घाटी में दो महीने में जले 25 स्कूल, हाईकोर्ट ने सरकार से कहा- इन्हें बचाएं
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर में पिछले दो महीनों में 25 स्कूलों में आग लगाई जा चुकी है। इस पर हाईकोर्ट ने संज्ञान लेते हुए आगे आकर सरकार से उन्हें बचाने को कहा है। गौरतलब है कि रविवार को कश्मीर के कंबामार्ग हायर सेकेंड्री स्कूल को आग के हवाले कर दिया गया था। पिछले हफ्ते भी तीन स्कूलों में आग लगाई गई थी।

बीते चार महीनों से बंद हैं स्कूल

हालांकि, इन आग लगाने के मामले में किसी तरह की जनहानि नहीं हुई। इसका बड़ा कारण ये भी है कि कश्मीर में लगभग पिछले चार महीनों से सभी स्कूल बंद हैं। घाटी में ये सब आतंकी संगठन हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से शुरू हुआ। सरकार ने इसके लिए अलगाववादियों को निशाना बनाया।

ये भी पढ़ें ...मोदी बोले-छत्‍तीसगढ़ में पर्यटन की अपार संभावनाएंं,तैयार हो रही मजबूत नींंव

ये कहना है डिप्टी सीएम का

इस पूरे मामले पर जम्मू-कश्मीर के डिप्टी सीएम निर्मल सिंह ने कहा, 'यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है, इसकी वजह अलगाववादी हैं। इनमें गिलानी समेत कई लोग शामिल हैं। वे लोग ऐसे लोगों को बढ़ावा दे रहे हैं जो स्कूलों को नुकसान पहुंचाते हैं। कश्मीर के बच्चों का भविष्य अंधकार की तरफ बढ़ रहा है।'

सबके अपने बोल

इस पूरे वाकये पर अलगाववादी नेता यासीन मलिक ने कहा, 'स्कूल पर हमला करने वाले लोगों को ढूंढकर सजा दी जानी चाहिए।' कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने इसे वहां के बच्चों का भविष्य खराब करने की गंदी चाल बताया।

ये भी पढ़ें ...जवान चंदू की वापसी मेंं जुटी MODI सरकार, PAK विदेश मंत्रालय से करेगी बातचीत

वेंकैया ने इसे बताया- पागलपन और विकृति

दिल्ली में केंद्रीय मंत्री एन वेंकैया नायडू ने कहा, ‘यह पागलपन और विकृति का मेलजोल है। वर्ना कोई भी किसी स्कूल में आग लगाने के बारे में कैसे सोच सकता है। घाटी के लोगों को यह सोचना होगा कि ऐसे लोग अब सारी हदें पार कर चुके हैं। ऐसे लोगों को बॉर्डर पार के हमारे दुश्मन हर तरीके से मदद पहुंचाते हैं।’

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story