×

Cheap Liquor: इस राज्य में बहुत सस्ती हुई शराब, कीमत सुन हो जायेंगे दंग

Cheap Liquor: नई आबकारी नीति के मुताबिक, राज्य में शराब की कीमतों में 30 प्रतिशत तक की गिरावट आई है। शराब की बिक्री के लिए बनाए गए नियम के अनुसार, महानगर में 24 घंटे शराब की बिक्री की अनुमति दी गई है

Krishna Chaudhary
Updated on: 2 July 2022 3:13 PM GMT
Punjab government
X

Liquor prices dropped in Punjab (Image Credit: Social media)

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Liquor prices dropped in Punjab: पंजाब में रह रहे शराब के शौकीनों के लिए एक बड़ा खुशखबरी है। महंगाई के इस दौर में अब उन्हें शाम की जाम छलकाने के लिए अपनी जेब अधिक ढ़ीली नहीं करनी पड़ेगी। पंजाब की भगवंत मान सरकार ने शराब की कीमतों में जबरदस्त कटौती कर दी है।

नई आबकारी नीति के मुताबिक, राज्य में शराब की कीमतों में 30 प्रतिशत तक की गिरावट आई है। शराब की बिक्री के लिए बनाए गए नियम के अनुसार, महानगर में 24 घंटे शराब की बिक्री की अनुमति दी गई है। इसी के साथ जिले में खुलने वाले ठेकों की संख्या में भी बढ़ोतरी की गई है।

जालंधर में फिल्लौर समूह के लिए सफल टेंडर हुआ, जिसके तरत 38 ठेके खोलने का प्रावधान किया गया है। महानगर में जो सफल टेंडर हुए हैं उनमें रेलवे स्टेशन, ज्योति चौक, लंबा पिंड, अवतार नगर का ग्रुप शामिल है जबकि देहात के भोगपुर, नूरमहल, शाहकोट व फिल्लौर शामिल है। ठेकों की मनमानी को रोकने के लिए आबकारी विभाग ने शराब ठेका परिसरों में नई रेट लिस्ट डिस्प्ले करवा दी है। शराब बेचने के नियम के मुताबिक ठेके खुलने का समय सुबह 9 बजे से लेकर रात 12 बजे तक रहेगा। जबकि रेलवे स्टेशन वाले ठेके पर शराब 24 घंटे बेची जा सकती है।

बीयर के ये ब्रांड हुए सस्ते

नई रेट लिस्ट के मुताबिक, गोल्डन ईगर, थंडर बोल्ड, रॉक वर्ग, जैनस बर्ग, हावर्ड 5000, किंगफिशर स्ट्रांग और लाइट 150 रूपये बोतल व केन की कीमत 120 रूपया निर्धारित की गई है। इसी तरह बीरा बाइट 200 रूपये और बकार्डी ब्रीजर की रेट 100 रूपया निर्धारित किया गया।

दरअसल शराब की कीमतों में कम करने के पीछे पंजाब सरकार का मकसद है राजस्व में बढ़ोतरी करना। सरकार का कहना है कि पड़ोसी राज्य हरियाणा और दिल्ली में काफी कम कीमत पर शराब की बिक्री होने के कारण इन राज्यों से ब्लैक में दारू की खेप आती है, जिससे सरकार के राजस्व को चूना लगता है।

Rakesh Mishra

Rakesh Mishra

Next Story