×

रमजान में वोटिंग का ओवैसी ने किया स्वागत, कहा- चुनाव की तारीखों पर न हो राजनीति

लोकसभा चुनाव की तारीखों को रविवार को चुनाव आयोग ने ऐलान कर दिया। इसके साथ ही रमजान में चुनाव की तारीखें पड़ने पर राजनीति तेज हो गई। कुछ मुस्लिम नेताओं और मौलानाओं ने रमजान के महीने में वोटिंग कराने पर सवाल खड़े किए हैं।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 11 March 2019 9:22 AM GMT

रमजान में वोटिंग का ओवैसी ने किया स्वागत, कहा- चुनाव की तारीखों पर न हो राजनीति
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव की तारीखों को रविवार को चुनाव आयोग ने ऐलान कर दिया। इसके साथ ही रमजान में चुनाव की तारीखें पड़ने पर राजनीति तेज हो गई। कुछ मुस्लिम नेताओं और मौलानाओं ने रमजान के महीने में वोटिंग कराने पर सवाल खड़े किए हैं। तो वहीं ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) अध्यक्ष और सांसद असदुद्दीन ओवैसी का कहना है कि इस मामले पर राजनीति न की जाए। उन्होंने कहा कि रमजान के महीने में चुनाव होना अच्छा है और मुसलमान इस महीने में ज्यादा वोट करेगा।

यह भी पढ़ें.....4 शादियाँ और 1 सगाई करने के बाद,फिर से अमेरिकी सिंगर जेनिफर ने की सगाई!

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि वह रमजान में चुनाव का स्वागत करते हैं। उन्होंने कहा कि वह रमजान में रोजा भी रहेंगे और वोट डालने भी जाएंगे। उन्होंने कहा कि 'रमजान से मतदान पर कोई असर नहीं पड़ेगा। इस पर राजनीति न की जाए। यह गैर जरूरी विवाद पैदा किया जा रहा है। आपको रमजान के बारे में क्या मालूम है?'

यह भी पढ़ें.....जम्मू-कश्मीर: पुलवामा एनकाउंटर में जैश कमांडर मुद्दसिर समेत तीन आतंकी ढेर

उन्होंने कहा, 'चांद दिखने के बाद रमजान पांच मई से शुरू होगा। ईद चार या पांच जून में पड़ेगी। चुनाव आयोग को चुनावी प्रॉसेस तीन-चार जून से पहले खत्म कर लेना है। जाहिर है कि रमजान से पहले चुनावी प्रॉसेस खत्म नहीं किया जा सकता और ईद के बाद चुनाव हो नहीं सकते। यह बात हर किसी को समझने की जरूरत है। बिना वजह इस पर राजनीति न की जाए।'

यह भी पढ़ें.....‘खतरों के खिलाड़ी’ सीजन 9 के विजेता बने कॉरियोग्राफर पुनीत पाठक

AIMIM अध्यक्ष ने सवाल उठाया, ' क्या मुसलमान रोजा रहकर दिन में काम नहीं करते हैं? हम रोजा भी रहते हैं, दिन में काम भी करते हैं और रात में जाकर नमाज भी पढ़ते हैं। ये लोग हमको हमारे ईमान को लेकर सवाल न उठाएं।'

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story