शर्मनाक: कमरे में 3 घंटे तक जलती रही युवती, पुलिस कर रही थी ये काम

मध्यप्रदेश पुलिस की असंवेदनशीलता एक बार फिर दिखाई दी है। एक विवाहिता कमरे में जलती रही और पुलिस बाहर से तमाशा देखती रही। वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस का अमानवीय चेहरा सबके सामने आ गया है।

भोपाल: मध्यप्रदेश पुलिस की असंवेदनशीलता एक बार फिर दिखाई दी है। एक विवाहिता कमरे में जलती रही और पुलिस बाहर से तमाशा देखती रही। वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस का अमानवीय चेहरा सबके सामने आ गया है।

लड़की अपने कमरे में तीन घंटे जलती रही, लेकिन पुलिस ने उसे बचाने के लिए कुछ नहीं किया सिर्फ गेट पर खड़ी होकर देखती रही।

यह भी पढ़ें…आइजोल में अमित शाह का बड़ा बयान, 2021 तक आएगी रेलवे लाइन

इस पूरे वाकया का सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो गया है। यह वायरल वीडियो मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले के भावगढ़ थाना क्षेत्र के करजू गांव की है। वीडियो में एक महिला कमरे में खुद को बंद कर आग लगा लेती है। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस उसे बचाने के बजाए दरवाजे पर बैठ गई और किसी को अंदर भी नहीं जाने दिया।

22 साल की लड़की ने केरोसिन अपने ऊपर डालकर आग लगा ली। इसके कुछ समय बाद ही पुलिस पहुंच गई, लेकिन उसे बचाने के बजाए बाहर बैठ गई और किसी और को भी अंदर नहीं जाने दी।

यह भी पढ़ें…ग्रेनेड हमले से दहला जम्मू-कश्मीर: 10 लोग घायल, सेना ने संभाला मोर्चा

करीब तीन घंटे बाद एफएसएल की टीम पहुंची तब लड़की की आग बुझाई गई। पुलिस के सामने ही करीब तीन घंटे तक लड़की आग की लपटों में जलती रही। पुलिस इतनी असंवेदनशील हो सकती है इसका अंदाजा किसी को नहीं रहा होगा।

पुलिस ने ऐसी कोई कोशिश नहीं की, जिससे लड़की को आग से बचाकर तुरंत अस्पताल पहुंचाया जाए। 22 साल की युवती की दो साल पहले शादी हुई थी। वह कुछ समय से वह अपने माइके में ही रह रही थी।

यह भी पढ़ें…PM मोदी-हसीना की प्रेस कांफ्रेंस, इन परियोजनाओं पर हुआ समझौता

विवाहिता के पिता ने कहा कि जैसे ही मुझे खबर मिली कि मेरी लड़की ने खुद को आग लगा ली है तो मैं दौड़कर घर आया, फिर पुलिस को बुलाया। पुलिस ने खिड़की तोड़ी, लेकिन मुझे अंदर नहीं जाने दिया और बाहर ही सब को रोक दिया गया। पुलिस ने कहा कि जब तक मंदसौर से एफएसएल अधिकारी नहीं आ जाती तब तक कुछ नहीं कर सकते हैं।

करीब 3 घंटे तक मेरी बेटी अंदर जलती रही और पुलिस बाहर बैठी रही। बाद में अधिकारी आई तो उन्होंने आग बुझाई। समय पर मेरी बेटी अस्पताल पहुंच जाती तो वह बच जाती। ऐसे पुलिस वालो के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App