×

शिवराज के लिए एक और इम्तिहान : मांगों के समर्थन में भोपाल में जुटे अध्यापक

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 15 Oct 2017 10:44 AM GMT

शिवराज के लिए एक और इम्तिहान : मांगों के समर्थन में भोपाल में जुटे अध्यापक
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

भोपाल : मध्य प्रदेश के अध्यापक सातवें वेतनमान सहित शिक्षा विभाग में संविलियन किए जाने की मांग को लेकर रविवार को राजधानी के भेल दशहरा मैदान में एकत्रित हुए। उन्होंने चेतावनी दी है कि अगर सरकार ने पूर्व में किए वादे पूरे नहीं किए तो उन्हें गंभीर नतीजे भुगतने होंगे।

अध्यापकों का आरोप है कि उनका बीते 20 वर्षो से लगातार शोषण किया जा रहा है। राज्य सरकार उन्हें आश्वासन देती रही, मगर उन्हें पूरा नहीं किया गया।

ये भी देखें: हद है यार! पीएम की खुशी के लिए शिवराज ही डुबोने पर तुले थे 40 हजार परिवारों को

अध्यापकों का कहना है कि वे पढ़ाते विद्यालयों में है और पंचायत विभाग के अधीन हैं, उनका शिक्षा विभाग में संविलियन किया जाना चाहिए।

अध्यापकों ने कहा कि उन्हें जनवरी, 2016 से सातवें वेतनमान का लाभ देने का सरकार ने वादा किया, वह अभी तक पूरा नहीं हुआ। इसके अलावा बीमा योजना का लाभ, अनुकंपा नियुक्ति का लाभ दिए जाने की मांग को लेकर पूरे राज्य से अध्यापक भोपाल में जमा हुए हैं।

आंदोलनकारियों ने सरकार को चेतावनी दी है कि अगर सरकार ने उनकी मांगें पूरी नहीं की तो उन्हें गंभीर नतीजे भुगतने पड़ सकते हैं।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story