×

Maharashtra Crisis: नई सरकार गठन के आसार तेज, राम कदम सहित कई भाजपा नेता फडणवीस के घर से बैठक के बाद रवाना

Maharashtra Crisis: इस दौरान भाजपा के कई दिग्गज नेताओं का मौजूद रहना एकनाथ शिंदे के साथ मिलकर महाराष्ट्र में नई सरकार गठन के आसार को तेजी से हवा दे रहा है।

Rajat Verma
Written By Rajat Verma
Updated on: 27 Jun 2022 2:52 AM GMT
Devendra Fadnavis Ram Kadam
X

देवेंद्र फडणवीस राम कदम (फोटो: सोशल मीडिया )

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Maharashtra Crisis: महाराष्ट्र में जारी सियासी संकट के बीच एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) की अगुवाई में दो तिहाई से अधिक शिवसेना (Shiv sena) विधायकों के पार्टी से बगावत का बाद अब महाराष्ट्र में नई सरकार गठन के आसार बेहद तेज नज़र आ रहे हैं। ऐसे में अब बीते शनिवार को एकनाथ शिंदे और पूर्व महाराष्ट्र सीएम व भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) के बीच बैठक के बाद अब देवेंद्र फडणवीस के आवास पर राम कदम (Ram Kadam) , प्रवीण दारेकर सहित कई दिग्गज भाजपा नेता शामिल रहे। फिलहाल, यह लोग देवेंद्र फडणवीस के आवास से रवाना हो चुके हैं।

ज़ाहिर है कि महाराष्ट्र में वर्तमान सियासी हालातों को लेकर ही पूर्व सीएम के आवास पर चर्चा आयोजित हुई तथा साथ ही इस दौरान भाजपा के कई दिग्गज नेताओं का मौजूद रहना एकनाथ शिंदे के साथ मिलकर महाराष्ट्र में नई सरकार गठन के आसार को तेजी से हवा दे रहा है। एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस के बीच की बैठक को लेकर फिलहाल तो कुछ भी सार्वजनिक है लेकिन आसार लगाए जा रहे हैं कि इस बैठक में दोनों के बीच शिवसेना सरकार को अल्पमत में लाने और नई सरकार गठन पर चर्चा हुई।

गुवाहाटी के एक होटल में रुके शिवसेना के बागी विधायक

आपको बता दें कि शिवसेना के सभी बागी विधायक वर्तमान में असम स्थित गुवाहाटी के एक होटल में रुके हुए हैं। वहीं केंद्र सरकार ने शिवसेना के सख्त रवैये को देखते हुए इन विधायकों के परिवार को केंद्रीय सुरक्षा प्रदान की है। इसके अलावा एकनाथ शिंदे ने बीते दिन गुवाहाटी में बागी विधायकों के साथ बैठक कर सभी को ज़ल्द से ज़ल्द सुरक्षित मुम्बई पहुंचने की योजना बताने के साथ ही सभी के परिवार को केंद्रीय सुरक्षा दिलवाने का आश्वासन दिया है।

इसके अतिरिक्त शिवसेना ने बीते दिन अपने 16 बागी विधायकों की सदन की सदस्यता रद्द करने को लेकर अपील दायर की गई है तथा आदित्य ठाकरे ने बागी विधायकों को चुनौती देते हुए इस्तीफा देकर चुनावी मैदान में आमना-सामना करने की बात कही है।

Monika

Monika

Next Story