×

मुख्य सचिव मारपीट मामला : आप और उप राज्यपाल के बीच तकरार

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 28 Feb 2018 1:35 PM GMT

मुख्य सचिव मारपीट मामला : आप और उप राज्यपाल के बीच तकरार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मारपीट मामले में आम आदमी पार्टी और उप राज्यपाल अनिल बैजल ने एक-दूसरे पर निशाना साधा। पिछले दिनों हुई इस घटना के बाद आईएएस एसोसिएशन ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से माफी मांगने तक किसी भी सरकारी बैठक में हिस्सा नहीं लेने की घोषणा की थी। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को बैजल के मंगलवार को केजरीवाल को लिखे पत्र का जवाब दिया। इससे पहले सिसोदिया ने बैजल को पत्र लिखा था।

सिसोदिया ने अपने में पत्र में, मंत्रियों द्वारा बुलाई गई बैठकों में नौकरशाहों के भाग नहीं लेने पर उपराज्यपाल से हस्तक्षेप करने की मांग की थी।

इसके बाद बैजल ने मंगलवार को पत्र लिखा जिसमें उन्होंने कहा कि सरकारी कर्मचारी 'लोकतंत्र और कानून का शासन बनाए रखने के लिए चुने गए प्रतिनिधियों की उपस्थिति में शारीरिक रूप से असुरक्षित महसूस कर रहे हैं।'

ये भी देखें : सरकारी अधिकारियों पर सिसोदिया की टिप्पणी निंदनीय : कर्मचारी संघ

सिसोदिया ने बुधवार को पत्र लिखकर आईएएस एसोसिएशन के 'फतवा' को 'पूर्ण समर्थन' देने के लिए उप राज्यपाल की निंदा की।

उन्होंने कहा कि उप राज्यपाल के पत्र से उनको 'मजबूती' मिलेगी जो अपना काम ठीक से नहीं कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, "तीन महीनों के लिए, 10 हजार आंगनवाड़ी कर्मचारियों, 10 हजार आंगनवाड़ी हेल्पर, 10 हजार आंगनवाड़ी मकान मालिकों को आईएएस अधिकारियों की वजह से वेतन नहीं मिला है। इससे आंगनवाड़ी से लाभ ले रहे पांच लाख बच्चे प्रभावित हो रहे हैं।"

सिसोदिया ने कहा, "अगर एक आईएएस अधिकारी मंत्रियों की शिकायत लेकर आपके पास आता है, आप उनकी गलती को नजरअंदाज करके, उसके आंसुओं को पोंछना शुरू कर देते हैं। आप मंत्रियों के द्वारा बुलाए गए बैठक का बहिष्कार करने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करते हैं।"

उन्होंने कहा कि आईएएस एसोसिएशन को उप राज्यपाल का समर्थन प्राप्त है और वह हमेशा उन्हें उपलब्ध होते हैं।

सिसोदिया ने कहा, "अगर आंगनवाड़ी का एक समूह आपसे मिलना चाहता है तो आपके कार्यालय से 2 किलोमीटर दूर उनपर लाठी चलाई जाती है।"

उन्होंने पत्र में लिखा, "आप खुद एक नौकरशाह रहे हैं, कृपया अब एक आंख से देखना बंद कीजिए और कृपया कर आंगनवाड़ी जाने वाले तीन वर्ष के बच्चे से जोड़कर स्थिति को देखिए।"

उन्होंने कहा, "कृपया राजनिवास और सचिवालय के व्यवस्था को समझने की कोशिश कीजिए। मेरी लड़ाई व्यवस्था के खिलाफ है, न कि इन आईएएस कर्मचारियों के खिलाफ।"

सिसोदिया ने उप राज्यपाल से उन अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने का आग्रह किया जिनकी गलती से आंगनवाड़ी कर्मचारियों को समय से वेतन नहीं मिला।

उन्होंने कहा, "कृपया उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें।"

पिछले हफ्ते आईएएस एसोसिएशन ने मुख्य सचिव से कथित मारपीट मामले में मंत्रियों के साथ बैठकों का बहिष्कार करने का फैसला किया था।

अधिकारियों ने हालांकि मंगलवार को बजट से संबंधित बैठक में हिस्सा लिया था।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story