×

शहीद गौतम पंवार का शामली में हुआ अंतिम संस्कार, UP सरकार ने की 20 लाख की आर्थिक मदद

अरूणांचल प्रदेश के तवांग क्षेत्र में हैलिकॉप्टर दुर्घटना में शहीद जवान गौतम पंवार का शव एयरफोर्स के जवानों के द्वारा एलम लाया गया। एलम सीमा पर हजारों लोगों नम आंखो से शहीद वीर जवान को श्रद्धांजलि दी। गमगीन माहौल में मृतक जवान के शव को श्मशान ले जाकर राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्ठी की। इस दौरान राज्यमंत्री सहित हजारों लोग मौजूद रहें।

priyankajoshi

priyankajoshiBy priyankajoshi

Published on 8 Oct 2017 11:16 AM GMT

शहीद गौतम पंवार का शामली में हुआ अंतिम संस्कार, UP सरकार ने की 20 लाख की आर्थिक मदद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

शामली: अरूणांचल प्रदेश के तवांग क्षेत्र में हैलिकॉप्टर दुर्घटना में शहीद जवान गौतम पंवार का शव एयरफोर्स के जवानों के द्वारा एलम लाया गया। एलम सीमा पर हजारों लोगों नम आंखो से शहीद वीर जवान को श्रद्धांजलि दी। गमगीन माहौल में मृतक जवान के शव को श्मशान ले जाकर राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्ठी की। इस दौरान राज्यमंत्री सहित हजारों लोग मौजूद रहें।

जनपद शामली के कांधला थाना क्षेत्र के कस्बा एलम निवासी किसान वनबीर सिंह पंवार का 26 वर्षीय पुत्र गौतम पंवार करीब 6 साल पहले एयरफोर्स में फ्लाइट इंजीनियर के पद पर भर्ती हुआ था। गौतम पंवार हाल में कलकत्ता के बैरकपुर में तैनात था। बीते शुक्रवार की सुबह को जवान अपने छह अन्य साथियों के साथ हेलिकॉप्टर से अरूणांचल राज्य के लिए उड़ान भरी थी। जैसे हीं हेलिकॉप्टर अरूणांचल राज्य के तवांग के पास पहुंचा तो अचानक हेलिकॉप्टर क्रैश हो गया था। हेलिकॉप्टर के क्रैश होने से सातों जवानों की मौके पर हीं मौत हो गई थी।

हजारों लोगों ने दी श्रद्धांजली

एयरफोर्स के अधिकारियों ने मामले की सूचना जवान गौतम पंवार के परिजनों को फोन पर दी थी। जवान गौतम पंवार की मौत की सूचना से मृतक जवान के परिजनों में कोहराम मच गया था। शहीद हुए जवान का पार्थिव शरीर शनिवार को विभागीय कार्रवाई के चलते एलम में नहीं पहुंच पाया था। रविवार को शहीद गौतम पवाँर का पार्थिव शरीर हेलीकॉप्टर से कैराना लाया गया। जहां से भारतीय एयरफोर्स के जवानों के द्वारा वाहन के माध्यम से शव कांधला कैराना मार्ग हाईवे से एलम लाया गया। जहां पर सैनिक भवन पर एलम की सीमा के अंतर्गत हजारों लोगों ने शहीद वीर जवान शव श्रद्धांजली दी। जिसके बाद जवान के शव को घर पर लाया गया। जहां से शव को श्मशान घाट ले जाया गया।

ये रहें शामिल

इस दौरान उत्तर प्रदेश सरकार के प्रतिनिधि के रूप में गन्ना मंत्री सुरेश राणा, एम.एल.सी. वीरेंद्र सिंह, सासंद हुकुम सिंह, डीएम शामली, एएसपी, एयरफोर्स के उच्चआधिकारी सहित हजारों लोगो ने श्रद्धांजली दी। जिसके बाद शव को छोटे भाई के द्वारा मुखाग्नि दी गई। एयरफोर्स की टीम ने शहीद को अंतिम गारद सलामी भी दी।

शहीद के शव यात्रा में गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने शोकाकुल परिवार को यूपी सरकार की ओर से 20 लाख रुपए की आर्थिक मदद किए जाने की भी घोषणा

priyankajoshi

priyankajoshi

इन्होंने पत्रकारीय जीवन की शुरुआत नई दिल्ली में एनडीटीवी से की। इसके अलावा हिंदुस्तान लखनऊ में भी इटर्नशिप किया। वर्तमान में वेब पोर्टल न्यूज़ ट्रैक में दो साल से उप संपादक के पद पर कार्यरत है।

Next Story