अगस्ता पर माया बोलीं-सरकार के पास दो साल का समय था,पहले जांच करवा लेते

Published by Published: May 4, 2016 | 4:37 pm
Modified: May 8, 2016 | 12:56 pm

नई दिल्ली: संसद में बुधवार को अगस्तावेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदे को लेकर चर्चा जारी है। इस मसले पर विभिन्न पार्टियों के सांसदों ने अपने विचार रखे। बीएसपी प्रमुख मायावती ने अपनी बात रखी।

मायावती ने कहा कि जब इस मामले में जांच चल रही है तो अच्छा यह होता कि जांच हो जाती तब इस पर चर्चा करवाई जाती। सरकार के पास दो साल का समय था, सरकार चाहती तो अब तक जांच करवा लेती। जो तथ्य सामने आते, उसके बाद चर्चा की जाती तो ज्यादा उचित होता। उन्होंने कहा कि जिस तरह से आरोप-प्रत्यारोप लगाए जा रहे हैं, उससे संशय नजर आ रहा है।

बीजेपी के भूपेंद्र यादव ने कहा-यह गंभीर विषय
राज्यसभा में बीजेपी सांसद भूपेंद्र यादव ने कहा है कि यह विषय गंभीर है। उन्होंने कहा कि वर्तमान रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने रक्षा सौदों के मामले में अच्छा काम किया है। देश को सैनिकों पर गर्व है।

अगस्तावेस्टलैंड सौदे पर यादव ने कहा कि 1999 में हेलीकॉप्टर को बदलने की कवायद शुरू हुई थी जो जरूरी भी था। ऊंची उड़ान वाले चॉपर की आवश्यकता थी। एनडीए की सरकार के समय यह ध्यान रखा गया कि सिंगल वेंडर सिस्टम नहीं होना चाहिए। सरकार बदली कि मार्च 2005 में तीन चीजें बदल गईं। 13 सितंबर 2013 को कैग ने कहा था कि एक बदलाव की वजह से बाद में केवल एक ही कंपनी रेस में रह गई। यह बदलाव केबिन की हाइट से जुड़ा था।

बचाव में क्या बोले सिंघवी
कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि उन लोगों पर आरोप लगाए जा रहे हैं, जिनका इस सौदे से कोई लेना-देना नहीं था। आखिर सरकार के पास सीबीआई, ईडी आदि संस्थाएं हैं, फिर क्यों नहीं सब साफ हो रहा है। वीवीआईपी लोगों को नए हेलीकॉप्टर की जरूरत होती है। हमने सीबीआई की जांच करवाई। इटली की कोर्ट के आदेश में ‘फैमिली’ शब्द त्यागी बंधुओं के लिए प्रयोग में लाया गया है। उन्होंने कहा कि यह भी साफ नहीं है कि ‘एपी’ का अर्थ अहमद पटेल है। यह भी प्रोसिक्यूटर ने कहा कि एपी का मतलब अहमद पटेल है।

रामगोपाल यादव बोले-तिल का ताड़ करने की जरूरत नहीं
सपा सांसद रामगोपाल यादव ने कहा कि कारगिल की लड़ाई में वही बोफोर्स काम आया था। अगस्तावेस्टलैंड में जैसे जानकारी सामने आई थी सौदा रद्द कर दिया गया था। मेरी सबसे अपील है कि तिल का ताड़ बनाने की आवश्यकता नहीं है। इससे सैनिकों के मनोबल पर बुरा असर पड़ता है। सरकार सत्ता में मई 2014 से है, आपने क्या कार्रवाई की?

शरद यादव ने कहा-इस मामले में कोई दम नहीं
शरद यादव ने कहा कि जो बात अभिषेक मनु सिंघवी ने कही है उसे दोहराऊंगा नहीं। आपके पास सीबीआई, ईडी सब है, जांच करवा लीजिए। आरोप लगाकर जिंदगी बर्बाद मत कीजिए। साख बहुत मुश्किल से बनती है। ये जो मामला है, उसमें कोई दम नहीं है। सरकार जब बन जाए तो आपका काम है एक्ट करना।