×

खत्म न हो जाए औषधीय खजाना

seema

seemaBy seema

Published on 24 Aug 2018 9:44 AM GMT

खत्म न हो जाए औषधीय खजाना
X
खत्म न हो जाए औषधीय खजाना
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

शिमला : हिमाचल प्रदेश के जंगलों से चिरायता, बनककड़ी, जटामांसी, कुटकी, अतीस, कालिहारी इत्यादि दर्जनों औषधीय पौधे लुप्त होने की कगार पर हैं। प्रदेश के वनों से अवैध रूप से दोहन करके दुर्लभ जड़ी-बूटियों को विदेशों में भेजा जा रहा है। पूरे विश्व में जितनी भी जड़ी-बूटियों को असाध्य रोगों के इलाज के लिए चिन्हित किया गया है उसमें से 24 पौधे अकेले हिमाचल प्रदेश के वन क्षेत्र में पाए जाते हैं। विदेशों में चुपके से ये जड़ी-बूटियां भेजकर वहां अनुसंधान भी हो रहा है और इसी कारण अंधाधुंध दोहन से प्रदेश में दुर्लभ औषधीय पौधे लुप्त भी हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें : केरल में असम-बंगाल के मजदूरों की आफत

हिमाचल में ऐसी जड़ी-बूटियां पायी जाती हैं जिनसे असाध्य रोगों को भी ठीक किया जा सकता है। प्रदेश में 3500 प्रकार के पेड़-पौधे पाए जाते हैं और इनमें से 500 पौधे औषधीय व 150 पौधे सुगंधित हैं। आंकड़ों के मुताबिक कुल प्रजातियों में से 70 प्रतिशत बूटियां, 15 प्रतिशत झाडिय़ां, 10 प्रतिशत वृक्ष व 5 प्रतिशत बेल हैं। यहां पर शिवालिक रेंज में सर्पगंधा, अश्वगंधा, ब्राह्मी व राखपुष्पी, शीत कटिबंधीय क्षेत्रों में सुगंधबाला, भूतकेसी, चोरा, बनख्शां, पाषाण भेद, सिंगली-मिंगली, वनककड़ी, चिरायता, सालम मिसरी और अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों में आर्थिक व औषधीय तत्व के महत्व वाली जड़ी-बूटियों में चिरायता, कुटकी, सालम पंजा, धूप, पतराला, रेवंदचीनी, रतनजोत व जटामांसी, प्रमुख रूप से पाए जाते हैं। बनककड़ी (वनस्पतिक नाम पोडोफायलम हैग्जेंड्रम) का उपयोग कैंसर निदान के लिए, वायोल पिलोसा (बनख्शां) का मुंह व गले के कैंसर व अन्य रोग, कलिहारी (ग्लोरियोसा सुपरवा) का उपयोग कोढ़, गठिया में, चिरायता (स्वर्रिया चिरायता) का उपयोग मधुमेह बीमारी को दूर करने के लिए किया जाता है।

seema

seema

सीमा शर्मा लगभग ०६ वर्षों से डिजाइनिंग वर्क कर रही हैं। प्रिटिंग प्रेस में २ वर्ष का अनुभव। 'निष्पक्ष प्रतिदिनÓ हिन्दी दैनिक में दो साल पेज मेकिंग का कार्य किया। श्रीटाइम्स में साप्ताहिक मैगजीन में डिजाइन के पद पर दो साल तक कार्य किया। इसके अलावा जॉब वर्क का अनुभव है।

Next Story