विदेशी फिल्ममेकर्स कर सकेंगे भारत में शूटिंग, सिंगल विंडो से मिलेगी मंज़ूरी

पीयूष गोयल ने कहा कि वह भारत में विदेशी फिल्मों की शूटिंग को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकारों से बात करेंगे, जिससे कि निर्माता किसी दूसरे विदेशी स्थान पर न जाने की बजाय भारत आएं और शूटिंग करें।

नई दिल्ली: कोरोना संकट के कारण देश में आये आर्थिक संकट को पटरी पर लाने के लिए वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने शनिवार को कहा कि सरकार विदेशी फिल्म मेकर्स को देश में फिल्मों की शूटिंग के लिए सिंगल विंडो से मंजूरी देने की सुविधा देगी। सरकार इस व्यवस्था को शुरू करने की दिशा में काम कर रही है। उन्होंने फिक्की और अन्य संगठनों से इस बारे में एक तंत्र तैयार करने में मदद करने का आग्रह भी किया।

सिंगल विंडो के साथ प्रक्रिया को आसान

गोयल ने उद्योग मंडल फिक्की (FICCI) द्वारा फिल्म उद्योग पर आयोजित ‘फिक्की फ्रेम्स 2020’ की आनलाइन चर्चा में कहा, ‘मैं चाहूंगा कि आप अलग तरह से सोचें और इनोवेशन लाएं। हम इस प्रक्रिया में सभी को शामिल कर सकते हैं, सिंगल विंडो के साथ प्रक्रिया को आसान कर सकते हैं और सभी शुल्क एक जगह लिया जा सकता है।’ उन्होंने कहा कि ‘सूचना और प्रसारण मंत्रालय के साथ मिलकर मेरे मंत्रालय को ऐसा करने में खुशी होगी। हम दूसरे उद्योगों के लिए ऐसा कर रहे हैं और आपके लिए भी ऐसा करना पसंद करेंगे।’

ये भी देखें: बड़ी खबर: राजभवन के 16 कर्मचारी हुए कोरोना संक्रमित, महकमे में मचा हड़कंप

विदेशी फिल्मों की शूटिंग को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकारों से करेंगे बात

पीयूष गोयल ने कहा कि वह भारत में विदेशी फिल्मों की शूटिंग को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकारों से बात करेंगे, जिससे कि निर्माता किसी दूसरे विदेशी स्थान पर न जाने की बजाय भारत आएं और शूटिंग करें। उन्होंने कहा कि इससे पर्यटन के क्षेत्र में भी सुधार आएगा। साथ ही उन्होंने अधिक संख्या में विदेशी कंपनियों को भारत में लाने की जरूरत पर जोर दिया।

इनोवेशन और कारोबारी ढांचे को मिलेगा नया स्वरुप

गोयल ने आत्मनिर्भर भारत योजना के बारे में कहा कि यह अपने दरवाजे बंद करने के बारे में नहीं है, बल्कि ताकत और आत्मविश्वास से भरी एक ऐसी स्थिति के बारे में है, जहां से हम समान शर्तों पर बातचीत करते हैं। कोविड-19 महामारी से पैदा हुई चुनौतियों के बारे में गोयल ने कहा कि दुनिया काम करने के नए तरीके को अपना रही है तथा आगे बने रहने के लिए उद्योगों को अलग तरह से सोचना होगा, इनोवेशन और कारोबारी ढांचे को नया स्वरूप देना होगा।

ये भी देखें: लखनऊ में हुआ टिड्डी दल का हमला, देखें तस्वीरें

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App