आम चुनाव को लेकर देशभर में लागू आदर्श आचार संहिता हटी, UP कैबिनेट बैठक 28 को

कैबिनेट सचिव और राज्य सरकारों के मुख्य सचिवों से आयोग ने कहा है कि आचार संहिता को तत्काल प्रभाव से हटा लिया गया है।

Published by SK Gautam Published: May 26, 2019 | 9:10 pm
Modified: May 26, 2019 | 10:47 pm

file photo

नई दिल्ली:  निर्वाचन आयोग ने रविवार को कहा कि आदर्श आचार संहिता समाप्त कर हटा ली गयी है। दस मार्च को लोकसभा चुनाव की घोषणा के साथ देश में आदर्श आचार संहिता लागू हुयी थी।

कैबिनेट सचिव और राज्य सरकारों के मुख्य सचिवों से आयोग ने कहा है कि आचार संहिता को तत्काल प्रभाव से हटा लिया गया है।

ये भी देखें : परिवहन के संविदाकर्मियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, भेजा जेल

आचार संहिता लागू होने के बाद सत्तारूढ़ दल सरकारी तंत्र का इस्तेमाल अपने राजनीतिक हितों की पूर्ति के लिए नहीं कर पाते हैं। वहीं, निर्वाचन आयोग इस संहिता का इस्तेमाल मतदाताओं को डराने-धमकाने या उन्हें लुभाने के लिए अनैतिक तरीकों का सहारा लेने वाले नेताओं के खिलाफ कार्रवाई के लिए करता है।

ये भी देखें : मोदी मंत्रिमंडल के रेस में शामिल है यूपी के दिग्गज, ये है लिस्ट

पिछले महीने 11 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान हुआ था। इस महीने की 19 तारीख को सातवें और आखिरी चरण का चुनाव हुआ था। मतों की गिनती 23 मई को हुई थी।

कैबिनेट बैठक 28 को
निर्वाचन आयोग द्वारा आदर्श आचार संहिता समाप्त किये जाने के बाद प्रदेश की योगी सरकार 28 मई को कैबिनेट बैठक करने वाली है। चुनाव की घोषणा से पहले आठ मार्च को अंतिम कैबिनेट बैठक हुई थी। योगी कैबिनेट 28 मई की बैठक में कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर फैसला ले सकती है। शासन से जुड़े सूत्रों की माने तो योगी कैबिनेट इस बैठक में स्थानांतरण नीति में कुछ संशोधन भी कर सकती है।
दरअसल, योगी सरकार द्वारा पूर्व में घोषित तबादला नीति के तहत अप्रैल व मई माह में ही अधिकारियों व कर्मचारियों के स्थनान्तरण किये जा सकते हैं। लेकिन चुनाव के चलते जारी आदर्श आचार संहिता के दौरान इस वर्ष इस नीति के तहत तबादले नहीं हो सके। ऐसे में सरकार कैबिनेट के माध्यम से तबादला नीति में संशोधन कर स्थानांतरण की समय सीमा को जून तक बढ़ा सकती है।