मोदी कैबिनेट का बड़ा फैसला, ये सरकारी कंपनी होगी बंद, यहां भी लागू होगा GST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (CCEA) की बैठक हुई। इस बैठक में कैबिनेट ने दादरा-नागर हवेली और दमन-दीव में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) लागू करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (CCEA) की बैठक हुई। इस बैठक में कैबिनेट ने दादरा-नागर हवेली और दमन-दीव में गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) लागू करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही केंद्र शासित दमन दीव और दादर नागर हवेली की राजधानी दमन होगी।

पिछले दिनों ही दोनों केंद्र शासित प्रदेशों को मिलाकर एक प्रदेश बनाया गया था। इसके अलावा मोदी कैबिनेट ने पिछड़ी जाति (ओबीसी) आयोग के कार्यकाल को 6 महीने के लिए बढ़ा दिया है। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कांफ्रेंस कर इस बात की जानकारी दी।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कैबिनेट ने दादरा-नागर हवेली और दमन-दीव के विलय के मद्देनजर जीएसटी, वैट और उत्पाद शुल्क से संबंधित अधिनियमों में संशोधन/विस्तार/निरस्त को मंजूरी दी है। उन्होंने कहा कि दमन को केंद्र शासित प्रदेश दादरा-नागर हवेली और दमन-दीव के मुख्यालय के रूप में भी नामित किया गया है।

यह भी पढ़ें…सुप्रीम कोर्ट में CAA: केंद्र सरकार को राहत, चार हफ्ते के बाद होगी सुनवाई

कैबिनेट ने सरकारी कंपनी हिंदुस्तान फ्लोरोकार्बन्स लिमिटेड को बंद करने का फैसला किया है। इस कंपनी में 88 कर्मचारी काम करते हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार ने बंद पड़ी हिंदुस्तान फ्लोरोकार्बन्स लिमिटेड को आधिकारिक रूप से बंद करने का निर्णय लिया है। ये कंपनी पहले से ही बंद थी। 37 साल ये पुरानी सरकारी कंपनी अब कागज पर भी बंद हो गई।

यह भी पढ़ें…दिल्ली चुनाव: BJP और कांग्रेस ने जारी की स्टार प्रचारकों की लिस्ट, देखें यहां पूरी सूची

37 साल पुरानी है कंपनी

हिंदुस्तान फ्लोरोकार्बंस की स्थापना 14 जुलाई 1983 को हिंदुस्तान ऑर्गेनिक केमिकल्स, लिमिटेड (HOCL) की सब्सिडियरी के तौर पर की गई थी। यह तेलांगाना के जिले संगारेड्डी में रूद्राराम में स्थित है। सन 1987 में कंपनी ने अपना प्रोडक्शन शुरू किया। कंपनी पोली टेट्रा फ्लोरो (PTFE-Poly Tetra Fluoro Ethylene) इथलेन बनाती है। इसके अलावा कंपनी CFM 22 बनाती है। PTFE का इस्तेमाल इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रोनिक इंडस्ट्रीज और ऐरोस्पेस सेक्टर्स में होता है। CFM-22 का इस्तेमाल रेफ्रिजिरेशन में होता है।