Top

महातिर मोहम्‍मद ने दिया ऐसा बयान, क्‍या नेहरू शांति सम्‍मान वापस लेगी मोदी सरकार

भारत सरकार के संस्‍कृति मंत्रालय के अधीन कार्य करने वाली संस्‍था इंडियन कौंसिल फॉर कल्‍चरल रिलेशंस की ओर से 1994 में मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्‍मद को भारत के पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के नाम पर दिए जाने वाले नेहरू सम्‍मान से सम्‍मानित किया गया था।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 30 Oct 2020 6:34 AM GMT

महातिर मोहम्‍मद ने दिया ऐसा बयान, क्‍या नेहरू शांति सम्‍मान वापस लेगी मोदी सरकार
X
महातिर मोहम्‍मद ने दिया ऐसा बयान, क्‍या नेहरू शांति सम्‍मान वापस लेगी मोदी सरकार
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ। मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्‍मद को भारत से मिला नेहरू सम्‍मान क्‍या वापस लिया जाएगा? फ्रांस में लाखों लोगों की हत्‍या के लिए मुसलमानों को उकसाने वाले महातिर मोहम्‍मद से सम्‍मान वापस लेने की मांग तेजी से उठ रही है। लोगों का कहना है कि हिंसा और आतंकवाद के समर्थक से यह सम्‍मान तत्‍काल वापस लिया जाना चाहिए।

1994 में महातिर मोहम्‍मद को सम्‍मानित किया गया था

भारत सरकार के संस्‍कृति मंत्रालय के अधीन कार्य करने वाली संस्‍था इंडियन कौंसिल फॉर कल्‍चरल रिलेशंस की ओर से 1994 में मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्‍मद को भारत के पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के नाम पर दिए जाने वाले नेहरू सम्‍मान से सम्‍मानित किया गया था। यह सम्‍मान अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर शांति व आपसी समझदारी के क्षेत्र में किए जाने वाले प्रयासों के लिए दिया जाता है लेकिन महातिर मोहम्‍मद ने एक दिन पहले जिस तरह का हिंसा फैलाने और जनसंहार को बढावा देने वाला बयान दिया है उसके बाद उनसे यह सम्‍मान लिए जाने की मांग तेजी से उठी है।

ये भी देखें: Live: गुजरात दौरे पर PM मोदी, इन बड़ी योजनाओं का करेंगे शुभारंभ

हिंसा और आतंकवाद को जायज ठहराने का लगा आरोप

देश के प्रबुद्ध वर्ग की ओर से यह मांग की जा रही है कि ऐसे व्‍यक्ति से तुरंत सम्‍मान वापस लिया जाना चाहिए। लोगों का कहना है कि जो व्‍यक्ति हिंसा और आतंकवाद को जायज ठहरा रहा हो। वह शांति का पक्षधर कभी नहीं हो सकता। महातिर मोहम्‍मद को जब यह सम्‍मान दिया गया था तब केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी अब लोग मोदी सरकार से मांग कर रहे हैं कि वह गलती सुधारे। देश के वरिष्‍ठ पत्रकार अखिलेश शर्मा ने अपनी टिप्‍पणी में कहा कि केवल चौबीस घंटे में दो अवार्ड की कहानी सामने आई।

ये भी देखें: बिखरी लाशें ही लाशें: भयानक हादसे से कांप उठा देश, 6 की दर्दनाक मौत

महातिर से तुरंत सम्‍मान वापस लिया जाए

महातिर को नेहरू सम्‍मान दिया गया था अब इनकी भाषा देखिए। जो कह रहे हैं कि मुस्लिमों को हक है कि वह लाखों फ्रांसीसियों का कत्‍ल कर दें। वहीं विंग कमांडर अभिनंदन को छोड़ने पर इमरान के नोबेल शांति पुरस्‍कार की मांग करने वालों को कल के खुलासे झटका लगा है। उन्‍होंने भी कहा कि क्‍या आईसीसीआर की ओर से महातिर से सम्‍मान वापस लेने की पहल की जाएगी। कई अन्‍य लोगों ने उनकी इस बात का समर्थन किया है हालांकि इसको लेकर भी कुछ लोग राजनीति करने से बाज नहीं आए हैं लेकिन ज्‍यादातर लोग चाहते हैं कि मोदी सरकार इस मामले में साहस दिखाए और महातिर से तुरंत सम्‍मान वापस लिया जाए।

रिपोर्ट- अखिलेश तिवारी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

Newstrack

Newstrack

Next Story