×

Mother's Day Special: आज का दिन मां के नाम, सोशल मीडिया पर लगाएं ये स्टेटस

Mother's Day 2019: इस बार मदर्स डे 12 मई को है. यानी 12 मई के दिन को आप अपनी मां के लिए जितना यादगार बना सकते हैं, बनाएं. इसकी शुरुआत इन शानदार स्टेटस (Mother's Day Status) से करें.

Vidushi Mishra
Updated on: 12 May 2019 5:58 AM GMT
Mothers Day Special: आज का दिन मां के नाम, सोशल मीडिया पर लगाएं ये स्टेटस
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: Mother's Day 2019: मां अपने बच्चों के लिए क्या कुछ नहीं करती। अपनी पूरी जिंदगी बच्चों के नाम कर देती है। ना दिन देखती है ना रात, अपना हर पल मां बच्चों को सौंप देती है। लेकिन मां के लिए आप क्या करते हैं? मां के प्यार और कुर्बानी को कहीं भूल ना जाएं, इसके लिए खास मदर्स डे मनाया जाता है।

यह दिन मां को प्यार जताने और खुश रखने का होता है। साल के 365 दिन तो मां को प्यार करते ही हैं, लेकिन मदर्स डे कि बात ही अलग है। इस बार मदर्स डे 12 मई को है। यानी 12 मई के दिन को आप अपनी मां के लिए जितना यादगार बना सकते हैं, बनाएं। इसकी शुरुआत इन शानदार स्टेटस से करें।

यह भी देखें... मदर्स डे पर अमिताभ बच्चन ने गाया ये बेहद खूबसूरत गाना

फूल और तोहफों से पहले मां को इन शानदार मैसेजेस से दें मदर्स डे की बधाई

"मां" की एक दुआ जिंजगी बना देगी

खुद रोएगी मगर तुम्हे हंसा देगी

कभी भूल के भी ना "मां" को रुलाना

एक छोटी-सी गलती पूरा अर्श हिला देगी

जिंदगी‬ की पहली टीचर‬ ‎मां

जिंदगी की पहली ‪फ्रेंड‬ मां

जिंदगी भी मां ‎क्योंकि

जिंदगी‬ देने वाली भी मां

दास्तां मेरे लाड़-प्यार की बस

एक हस्ती के गिर्द घूमती है

प्यार जन्नत से इसलिए है मुझे

क्योंकि ये भी मेरी मां के कदम चूमती है

ये कहकर मंदिर से फल की पोटली चुरा ली मां ने

तुम्हे खिलाने वाले तो और बहुत आ जाएगे गोपाल

मगर मैंने ये चोरी का पाप ना किया तो भूख से मर जाएगा मेरा लाल

किसी ने रोजा रखा किसी ने उपवास रखा

कुबूल उसका हुआ जिसने अपने मां-बाप को अपने पास रखा

मां की अजमत से अच्छा जाम क्या होगा

मां की खिदमत से अच्छा काम क्या होगा

खुदा ने रख दी हो जिस के कदमों में जन्नत

सोचो उसके सिर का मुकाम क्या होगा

अभी ज़िंदा है मां मेरी मुझे कुछ भी नहीं होगा

मैं घर से जब निकलता हूं दुआ भी साथ चलती है

चलती फिरती हुई आंखों से अज़ां देखी है

मैंने जन्नत तो नहीं देखी है मां देखी है

टिप्पणियां

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है

मां बहुत गुस्से में होती है तो रो देती है

कल अपने-आप को देखा था मां की आंखों में

ये आईना हमें बूढ़ा नहीं बताता है

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story