×

अमर सिंह ने कहा- अखिलेश की साइकिल को हाथ भी चाहिए, हाथी भी, पिता के हाथ से सत्ता भी

aman

amanBy aman

Published on 10 March 2017 12:46 PM GMT

अमर सिंह ने कहा- अखिलेश की साइकिल को हाथ भी चाहिए, हाथी भी, पिता के हाथ से सत्ता भी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: यूपी विधानसभा चुनाव का नतीजा अभी आना बाकी है, लेकिन उससे पहले अखिलेश यादव ने सरकार बनाने के लिए मायावती की तरफ हाथ बढ़ाया है। यूपी के सीएम अखिलेश यादव की इन कोशिशों पर अब सांसद अमर सिंह ने अपनी ही अंदाज में प्रतिक्रिया दी है।

एग्जिट पोल के नतीजों पर प्रतिक्रिया देते हुए अमर सिंह ने कहा, 'साइकिल को हाथ भी चाहिए, हाथी भी, बाप के हाथ से सत्ता भी चाहिए, संगठन भी चाहिए। सपा के वर्तमान सुप्रीमो को सब कुछ चाहिए, लेकिन सत्ता हाथ से नहीं जानी चाहिए। ये बहुत हताशा, निराशा और अस्थिरता की स्थिति है और इसका अंजाम बहुत बुरा होगा।' अमर सिंह ने ये बातें 'आज तक' से बातचीत में कही।

ये भी पढ़ें ...अखिलेश यादव का बड़ा बयान, बोले- जरूरत पड़ी तो मायावती से हाथ मिलाने को तैयार

अखिलेश कुछ भी प्रलाप कर देते हैं

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती से सपा के हाथ मिलाने की संभावना पर अमर सिंह ने कहा, 'अखिलेश को ये नहीं भूलना चाहिए कि सुप्रीम कोर्ट में अब भी उनके पिता और मायावती के बीच गेस्ट हाउस कांड का मुकदमा चल रहा है। उसके नतीजे कुछ भी आ सकते हैं। उन नतीजों से बेपरवाह, बेखबर कुछ भी प्रलाप कर देते हैं।'

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर ...

पारिवारिक कलह थी अखिलेश की मज़बूरी

अमर सिंह बातचीत में कहा, अखिलेश ने एक अखबार से बात करते हुए तो यहां तक कह दिया था कि यदि घर में विवाद ना हुआ होता, तो वह कांग्रेस से हाथ भी नहीं मिलाते।

प्रदेश में ना आए त्रिशंकु विधानसभा

यूपी विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद की स्थिति पर अमर बोले, कि हो सकता है कि प्रदेश में एक बार फिर समाजवादी पार्टी की सरकार बने या अन्य कोई दल बहुमत के साथ सरकार बनाए। चाहे जिसकी भी सरकार बने वो पूर्ण बहुमत से बने। प्रदेश में त्रिशंकु विधानसभा नहीं आनी चाहिए।

बीजेपी-बसपा में पहले भी हो चुका है सियासी निकाह

अमर से जब ये पूछ गया कि क्या ऐसा भी हो सकता है कि बीजेपी और बसपा हाथ मिलाकर सरकार बना ले? इस पर अमर सिंह ने कहा, 'इस पर मैं क्या कह सकता हूं। दोनों के बीच परंपरागत संबंध रहे हैं। एक-दो बार नहीं, बल्कि तीन-तीन बार। दोनों के बीच सियासी निकाह हो चुका है। हमें वह नजारा भी याद है।'

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story