अयोध्या फैसला! राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने बुलाई संतों की बैठक

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के दिल्ली स्थित आवास पर बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में योग गरु बाबा रामदेव, हिन्दू धर्म आचार्य सभा के संयोजक स्वामी परमात्मानंद सहित कई नेता पहुंचे हैं।

नई दिल्ली: राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने संतों की बैठक बुलाई है। रामदेव, स्वामी परमात्मानंद समेत कई संत बैठक के लिए डोभाल के आवास पहुंच गए।

बताते चलें कि इसके पहले पीएम मोदी ने देश के नाम संबोधन दिया है। बताते चले ंकि राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल ने बाबा रामदेव और स्‍वामी पमरमात्‍मानंद समेत दूसरे संतों की बैठक बुलाई है। बैठक में भाग लेने के लिए डोभाल के आवास पर बाबा रामदेव पहुंच गये हैं।

ये संत पहुंचे आवास पर…

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल के दिल्ली स्थित आवास पर बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में योग गरु बाबा रामदेव, हिन्दू धर्म आचार्य सभा के संयोजक स्वामी परमात्मानंद सहित कई नेता पहुंचे हैं। इस बैठक में राम मंदिर के निर्माण पर चर्चा हो सकती है। इसके अलावा देश के सुरक्षा गतिविधियों पर भी विचार किया जा सकता है।

पीएम मोदी ने देश को किया संबोधित…

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पीएम मोदी ने देश को संबोधित किया है। उन्होंने अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान किया और भारत की जनता की तारीफ की।

उन्होंने कहा कि भारत विविधता में एकता के लिए जाना जाता है। आज की घटना इतिहास के पन्नों पर लिखी जाएगी। ये इतिहास के पन्नों से नहीं उठाई गई। ये तो 130 करोड़ जनता के सहयोग की एकता स्वर्णित अक्षरों में लिखी जाएगी।

पीएम मोदी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी बहुत धैर्य से इस फैसले को सुनाया है। उन्होंने कहा कि आज के दिन ही 9 नवम्बर को बर्लिन की दिवार गिरी थी। आज ही करतारपुर कॉरिडोर की शुरूआत हुई है। आज का दिन बहुत ही ऐतिहासिक है। आज के दिन को कभी भूलाया नहीं जा सकता।

सर्वोच्च न्यायालय के इस फैसले ने यह संदेश दिया है कि कानुन के दायरे समय चाहे लगे पर धैर्य रखना बहुत जरूरी है।

बता दें कि अयोध्या पर फैसला आने के पहले भी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ मिलकर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, केंद्रीय गृह सचिव अजीत भल्ला, खुफिया ब्यूरो के निदेशक अरविंद कुमार और कई अन्य अधिकारी ने बैठक की थी।