×

मार लिया मैदान! घाना में एयरटेल-टीगो के विलय को मंजूरी

Rishi

RishiBy Rishi

Published on 3 Oct 2017 3:13 PM GMT

मार लिया मैदान! घाना में एयरटेल-टीगो के विलय को मंजूरी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली : भारती घाना(एयरटेल) ने मंगलवार को कहा कि घाना के राष्ट्रीय संचार प्राधिकरण ने कुछ शर्तो के साथ मिलिकॉम घाना(टीगो) के साथ विलय को मंजूरी दे दी है। कंपनी के अनुसार, विलय के बाद यह कंपनी पश्चिम अफ्रीकी देशों में संचालित होने वाली दूसरी सबसे बड़ी कंपनी बन जाएगी।

कंपनी ने कहा कि इसके विलय की घोषणा सबसे पहले मार्च में हुई थी, जिसके बाद नियामक को हमारे आवेदन और नियामकीय इकोसिस्टम के एक व्यापक विश्लेषण की जरूरत थी।

ये भी देखें: यूपी के डॉक्टरों के दिन सुधर सकते हैं, आईएमए कर रहा है संघर्ष

कंपनी ने बयान जारी कर कहा, "कुशल और न्यायसंगत वितरण सुनिश्चित करने के लिए और स्पेक्ट्रम तक पहुंच बनाने के लिए, दोनों कंपनियों को अधिकारियों को एक नेटवर्क इंटीग्रेशन प्लान सौंपना था।"

बयान के अनुसार, यह हालांकि भौगोलिक क्षेत्र के आधार पर विभिन्न चरणों में किया गया और नेटवर्क में किसी भी तरह के व्यवधान को रोकने के लिए इसे 18 महीने के अंदर पूरा किया गया।

ये भी देखें: हनीप्रीत ने राम रहीम संग अवैध संबंधों की बात खारिज की

बयान के मुताबिक, संख्या के मुद्दे पर, विलयित कंपनी अपने सभी सांख्यिकी संसाधन को बरकरार रखेगी।

एनसीए ने दोनों कंपनियों से इस बदलाव की जानकारी देने के लिए एक योजना दाखिल करने और विलय के 30 दिनों के अंदर इससे संबंधित कदम उठाने का आग्रह किया है।

Rishi

Rishi

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।

Next Story