AN-32 विमान: हेलिकॉप्टर की मदद से लाया जाएगा 13 हवाई योद्धाओं का पार्थिव शरीर

वायुसेना की सर्च टीम आज यानी गुरुवार सुबह AN-32 की क्रैश साइट पर पहुंच गई है. उन्हें कोई जीवित नहीं मिला है। वायुसेना ने आज 3 जून से लापता विमान एएन 32 में सवार 13 लोगों की मौत की पुष्टि की।

AN-32 विमान हादसे में कोई नहीं मिला जिंदा, क्रैश साइट पर पहुंची टीम ने की पुष्टि

नई दिल्ली: N-32 विमान में सवार सभी 13 जवान के शव बरामद कर लिए गए हैं। अरुणाचल प्रदेश में दुर्घटनास्थल से अब शवों को लाने के लिए हेलिकॉप्टर की मदद ली जाएगी. बता दें कि आज ही वायुसेना ने 3 जून से लापता विमान एएन 32 में सवार 13 लोगों की मौत की पुष्टि की थी। वायुसेना ने कहा कि आज आठ सदस्यों की टीम दुर्घटनास्थल पर पहुंची।एयरफोर्स को दुख है कि एएन 32 की दुर्घटना में कोई भी नहीं बचा है।

वायुसेना की सर्च टीम आज यानी गुरुवार सुबह AN-32 की क्रैश साइट पर पहुंच गई है। उन्हें कोई जीवित नहीं मिला है।

यह भी पढ़ें……वायुसेना ने N-32 के मलबे वाली जगह के पास हेलिकॉप्टर से 15 जवान और पर्वतारोही उतारे

वायुसेना ने ट्वीट कर कहा, ”एएन 32 विमान की दुर्घटना में जीएम चार्ल्स, एच विनोद, आर थापा, ए तंवर, एस मोहंती, एमके गर्ग, केके मिश्रा, अनूप कुमार, शिरिन, एसके सिंह, पंकज, पुतली और राजेश कुमार की मौत हो गई।” वायुसेना ने इस बड़े नुकसान पर दुख प्रकट किया है और जान गंवाने वाले लोगों के परिवार के प्रति संवेदना प्रकट की है।

यह भी पढ़ें……आईएएफ ने लापता एएन-32 विमान का पता लगाने के लिए खोज अभियान तेज किया

जोरहाट से चीन की सीमा के पास अरुणाचल के मेंचुका के लिए उड़ान भरने वाला वायुसेना का एएन-32 विमान 3 जून दोपहर करीब एक बजे लापता हो गया था। इस विमान की आखिरी लोकेशन अरुणाचल के पश्चिम सियांग जिले में चीन की सीमा के पास मिली थी। एअररूट से 15 से 20 किलोमीटर दूर अरुणाचल प्रदेश के टेटो इलाके के पास घने जंगल में विमान का मलबा मिला।

काफी मशक्कत के बाद वायुसेना ने 11 जून को हवाई ऑपरेशन में मलबे का पता लगाया। लेकिन तब तक सर्च ऑपरेशन में शामिल टीम दुर्घटना स्थल पर नहीं पहुंच सकी।12 जून यानि कल वायुसेना की टीम को घटना स्थल पर एयरड्रॉप किया गया. जिसके बाद आज विमान में सवार रहे सभी 13 लोगों की मौत की पुष्टि की गई।