×

J&K: उमर अब्दुल्ला का मोदी सरकार पर हमला, कहा- 'हिजाब, अजान जैसे मुद्दे उठाकर मुस्लिमों को कर रहे परेशान'

J&K : उमर अब्दुल्ला ने सोमवार को सरकार पर हमलावर रुख अख्तियार करते हुए कहा, कि 'मोदी सरकार हिजाब, अज़ान जैसे मुद्दों को उठाकर मुसलमानों को परेशान कर रही है।

aman
Updated on: 2022-05-16T17:16:17+05:30
omar abdullah attacks on modi modi government raises questions on hijab azan and article 370
X

 उमर अब्दुल्ला। (Social Media)  

  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला है। नेशनल कॉन्फ्रेंस (National Conference) के नेता उमर अब्दुल्ला ने सोमवार को सरकार पर हमलावर रुख अख्तियार करते हुए कहा, कि 'मोदी सरकार हिजाब, अज़ान जैसे मुद्दों को उठाकर मुसलमानों को परेशान कर रही है।'

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री अब्दुल्ला ने एक बार फिर अनुच्छेद- 370 का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा, कि इसे हटाया नहीं जा सकता। क्योंकि, यह जम्मू और कश्मीर के भारत में विलय का आधार बना था। खास बात ये रही कि उमर अब्दुल्ला का बयान ऐसे समय पर आया है, जब सुप्रीम कोर्ट अनुच्छेद- 370 को हटाने के खिलाफ दाखिल याचिकाओं पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया है।

इन मुद्दों पर भी भड़के थे

बता दें कि ये पहली बार नहीं है जब उमर अब्दुल्ला मोदी सरकार पर इस तरह भड़के हैं। इससे पहले हाल ही में उन्होंने लाउडस्पीकर विवाद, हलाल मीट और बिजली कटौती सहित अन्य मुद्दों पर भी अपनी जमकर भड़ास निकाली थी। तब भी उन्होंने सरकार को आड़े हाथों लिया था।

बिजली कटौती पर भी फूटा था गुस्सा

उमर अब्दुल्ला ने रमजान के दौरान भी मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था कि शहरी और इफ्तार के वक्त बिजली काटी जा रही है। अगर वाकई में बिजली की कमी है तो बाकी के घंटों में बिजली की कटौती करें, लेकिन शहरी और इफ्तार के वक्त बिजली मत काटें। उन्होंने पूछा था, माइक, हलाल, हिजाब और रोजों में बिजली भी नहीं दे रहे तो क्या दे रहे हो आप हमें?'

आर्टिकल- 370 पर ये बोले

वहीं, आर्टिकल- 370 के मुद्दे पर उमर अब्दुल्ला ने कहा, 'जब आप कहते हैं कि जम्मू और कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और इसे इससे अलग नहीं किया जा सकता, तो आप उस आधार को नहीं हटा सकते जिसकी वजह से यह देश का अभिन्न अंग बना है।' हालांकि, उन्होंने इस मुद्दे पर ज्यादा कुछ बोलने से मना कर दिया। कहा, यह मामला अभी कोर्ट में है। उन्होंने बताया कि चीफ जस्टिस गर्मियों की छुट्टी के बाद मामले पर सुनवाई के लिए तैयार हो गए हैं।'

aman

aman

Next Story