2000 बार सीज फायर! जम्मू-कश्मीर का सबसे दहशत भरा साल

विदेश मंत्रालय के एक आधिकारिक प्रवक्ता ने बताय कि  हमने पाकिस्तान की तरफ से बिना किसी उकसावे के संघर्ष विराम के उल्लंघन, सीमा पार से आतंकवादी घुसपैठ और उनके द्वारा भारतीय नागरिकों और सीमा चौकियों को निशाना बनाये जाने पर चिंता जतायी है।

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर से धारा-370 हटने से पहले और हटने के बाद से अबतक, पाकिस्तान इस वर्ष बिना किसी उकसावे के ही 2050 बार से अधिक बार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर चुका है। इस उलंघन में अबतक 21 भारतीयों की मौत भी हो चुकी है।

विदेश मंत्रालय के एक आधिकारिक प्रवक्ता ने बताय कि  हमने पाकिस्तान की तरफ से बिना किसी उकसावे के संघर्ष विराम के उल्लंघन, सीमा पार से आतंकवादी घुसपैठ और उनके द्वारा भारतीय नागरिकों और सीमा चौकियों को निशाना बनाये जाने पर चिंता जतायी है।

ये भी देखें : सावधान लड़कियों! भूल से भी ना खाएं ऐसा खाना, होगा बड़ा नुकसान

2050 से अधिक बार संघर्ष विराम का उल्लंघन

प्रवक्ता ने बताया कि केवल एक साल में ही बिना किसी उकसावे के 2050 से अधिक बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया गया जिनमें 21 भारतीयों की मौत हो गई। उन्होंने कहा, “हमने लगातार पाकिस्तान से अपने सुरक्षा बलों को 2003 के संघर्ष विराम समझौते का पालन करने के लिए कहने और नियंत्रण रेखा एवं अंतरराष्ट्रीय सीमा पर शांति बनाये रखने की अपील की है।”

इमरान खान ने कहा ने कहा कि पारंपरिक जंग में भी भारत से पाकिस्तान हार जायेगा

प्रवक्ता ने कहा कि इस दौरान भारतीय बलों ने ‘बहुत संयम’ बरता है और शांति बनाये रखने का पूरा प्रयास किया है और बिना किसी उकसावे के किये गये संघर्ष विराम उल्लंघन और सीमा पार से आतंकवादी घुसपैठ के प्रयास का मुंहतोड़ जवाब भी दिया है।

ये भी देखें : मोदी को धमकी मंहगी: फेमस पाकिस्तानी सिंगर की हालत खराब

गौरतलब है कि पाकिस्तान ने अपने नीकिया और जंदरोट सेक्टरों में भारतीय जवानों की तरफ से संघर्ष विराम के उल्लंघन का झूठा आरोप  लगाते हुए शनिवार को भारत के उप-उच्चायुक्त गौरव अहलूवालिया को तलब किया था। इसके ठीक एक दिन बाद विदेश मंत्रालय का यह बयान आया है।