भारत का पाकिस्तानी बच्चा, एक एड्रेस से मच गया बवाल

देश भर में CAA और NRC को लेकर बवाल मचा है। बहुत सी जगह पर इसके खिलाफ धरना प्रदर्शन चल रहा हैं। इसको लेकर हर जगह बवाल चल रहा है।

गांधी नगर: देश भर में CAA और NRC को लेकर बवाल मचा है। बहुत सी जगह पर इसके खिलाफ धरना प्रदर्शन चल रहा हैं। इसको लेकर हर जगह बवाल चल रहा है। अब इसी बीच खबर आ रही है कि गुजरात में एक बच्चे के बर्थ सर्टिफिकेट पर अड्रेस में ‘पाकिस्तान’ लिखा गया हो, जिसके वजह से उसके परिवारवाले परेशान हो जाएंगे।

ये भी पढ़ें:पटरी पर दौड़ेंगी टाटा-हुंडई की ट्रेनें: इतना होगा किराया, जानें और क्या खास…

CAA-NRC प्रोटेस्ट: संविधान को नहीं मानती सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र की महिलाएं

क्या है पाकिस्तान कनेक्शन

जानकारी के मुताबिक, ये बर्थ सर्टिफिकेट अहमदाबाद नगर निगम ने जारी किया है, जहां 18 महीने के एक बच्चे के बर्थ सर्टिफिकेट पर एड्रेस में लिखा है ‘पाकिस्तान रेलवे क्रॉसिंग’। असल में जिस इलाके में ये बच्चा रहता है लोग इसे अनौपचारिक तौर ‘पाकिस्तान क्रॉसिंग’ कहते हैं। यहां दो हज़ार से ज्यादा मुस्लिम परिवार रहते हैं। इसे बहुत से लोग छोटा पाकिस्तान भी कहते हैं। जबकि अधिकारिक तौर पर ये ‘वसंत गजेंद्रगढ़ नगर ईडब्ल्यूएस हाउसिंग’ है, जिसका नाम जनसंघ की गुजरात इकाई के पहले महासचिव के नाम पर रखा गया है। इतना ही नहीं यहां पास में ही सद्भावना नगर और कुशाभाऊ कॉलिनी को लोग हिंदुस्तान कहते। ऐसा इसलिए कि यहां रहने वाले ज्यादातर लोग हिंदू हैं।

पाकिस्तान रेलवे क्रॉसिंग?

आपको बता दें कि 18 महीने के बच्चे मोहम्मद उज़ेर खान का जन्म 1 अक्टूबर, 2018 को हुआ था। ये परिवार रेलवे क्रॉसिंग के पास चार मंजिला सोसायटी में रहता है। बच्चे की दादी शालेहा बीबी पठान 3 फरवरी को सरकारी ऑफिस में बर्थ सर्टिफिकेट लेने गई थी। जब उन्होंने ने प्रमाण पत्र को सही से देखा तो उसमें अड्रेस के साथ लिखा था- ‘नियर पाकिस्तान रेलवे क्रॉसिंग’। ये देखकर वे परेशान हो गए।

गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान- NRC का फिलहाल अभी कोई प्लान नहीं

ये भी पढ़ें:कानून अंधा क्यों! आखिर कौन थी ये देवी जिसकी आंखों पर पट्टी और हाथ में है तराजू

अब क्या जाएगा ठीक

जन्म एवं मृत्यु प्रमाणपत्र विभाग के रजिस्ट्रार ऑफिस के इंचार्ज भाविन जोशी ने बताया कि बच्चे के पैरंट्स को ऑफिस बुलाया गया है, दस्तावेजों का सत्यापन करके इस गलती को ठीक किया जाएगा। बच्चे के परिवारवालों ने बताया कि CAA और NRC की वजह से, ये लोग सर्टिफिकेट लेने गए थे। उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि ऑफिस में इनकी कोई सुनने वाला नहीं था।