बुरहान की मौत पर पाक PM शरीफ ने बहाए आंसू, हाफिज सईद ने बताया शहीद

Published by Published: July 11, 2016 | 5:44 pm
Modified: August 29, 2016 | 4:27 pm

नवाज शरीफ ( फाइल फोटो)

नई दिल्ली: हिजबुल के पोस्टर बॉय आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद कश्‍मीर घाटी में भड़की हिंसा को शांत करने के लिए सुरक्षा बल और सरकार जी-तोड़ कोशिशें कर रही हैं। इन प्रयासों के बीच पाकिस्‍तान की ओर से इस मामले में ऐसा बयान आया है जो तनाव को और बढ़ा सकता है।

क्या कहा पाक पीएम ने ?
-पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने सोशल मीडिया के जरिए कहा, कि भारतीय सेना और अर्धसैनिक बलों के हाथों बुरहान सहित अन्‍य नागरिकों की मौत दुखद है।
-नवाज शरीफ के ऑफिस की ओर से जारी एक बयान में यह जानकारी दी गई है।
-इस बयान पर भारत की ओर कड़ी प्रतिक्रिया आने की संभावना है।
-गौरतलब है कि आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी को सुरक्षा बलों ने शुक्रवार रात कश्‍मीर में मार गिराया था।

ये भी पढ़ें …J&K : दहकती घाटी में अब तक 25 की मौत, अमरनाथ यात्री लौट रहे घर

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उठाएंगे मुद्दा
-पाक पीएम नवाज शरीफ ने बुरहान वानी के मारे जाने को एक्स्ट्रा जुडिशल-किलिंग करार दिया है।
-शरीफ ने कश्मीर में भारतीय सेना को आक्रामक बताते हुए इस कार्रवाई पर हैरानी जताई।
-पाक विदेश मंत्रालय के हवाले से कहा गया, कि कश्मीर में बेगुनाहों को गोली मारी जा रही है।
-वह अतंरराष्ट्रीय स्तर पर मानवाधिकार से जोड़कर इस मुद्दे को उठाने की कोशिश करेंगे।

ये भी पढ़ें …श्रीनगर में फंसे यूपी के 6 MLAs, स्टडी टूर के लिए गए थे कश्‍मीर

‘कश्मीर में भड़काओ भारत विरोधी भावना’
-सेना की कार्रवाई में मारे गए हिजबुल के आतंकी बुरहान की याद में पाक अधिकृत कश्मीर के मुजफ्फराबाद में हिजबुल के बेस पर आयोजित कार्यक्रम में उसे शहीद बताया।
-हाफिज सईद ने कश्मीर घाटी में सोशल मीडिया के जरिए भारत विरोधी भावना को भड़काने के लिए कहा है।
-गौरतलब है कि हाफिज कई सालों से ही भारत विरोधी गतिविधियों में लोगों को जोड़ने की कोशिश कर रहा है।

भारत ने दिया जवाब 
शरीफ के बयान का जवाब देते हुए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने कहा, ‘जम्मू कश्मीर में जो हो रहा है वह हमारा अंदरुनी मामला है। पाकिस्तान बेकार इसमें दखल न दे। अगर उसे कुछ करना है तो गैर अधिकृत तरीके से जो उसने कश्मीर का हिस्सा कब्जाया हुआ है, वहां मानवाधिकार के उल्लंघन पर ध्यान दे।’