Top

मोदी ने संभाली कमान: पहुंचे शाह समेत कई मंत्री, गतिरोध को तोड़ने की कोशिश

संसद में गतिरोध के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कमान संभाली हुई है। जिसके चलते पीएम मोदी अपनी सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों के साथ मीटिंग कर रहे हैं। बता दें, पीएम मोदी ये मीटिंग संसद भवन में कर रहे हैं।

Vidushi Mishra

Vidushi MishraBy Vidushi Mishra

Published on 5 Feb 2021 11:39 AM GMT

मोदी ने संभाली कमान: पहुंचे शाह समेत कई मंत्री, गतिरोध को तोड़ने की कोशिश
X
पीएम मोदी अपनी सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों के साथ मीटिंग कर रहे हैं। पीएम मोदी की इस मीटिंग का मुख्य उद्देश्य लोकसभा में जारी गतिरोध को कैसे से तोड़ा जाए।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली। कृषि कानूनों को लेकर संसद के बजट सत्र में विपक्ष ने आक्रामक रूप धारण किया हुआ है। ऐसे में अब संसद में गतिरोध के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कमान संभाली हुई है। जिसके चलते पीएम मोदी अपनी सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों के साथ मीटिंग कर रहे हैं। बता दें, पीएम मोदी ये मीटिंग संसद भवन में कर रहे हैं। कृषि कानून पर हो रही इस बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद हैं। साथ ही गृह मंत्री शाह के अलावा सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी भी मौजूद हैं।

ये भी पढ़ें... किसानो के चक्का जाम को देखते हुए अमित शाह का कल होने वाला सिंधुदुर्ग दौरा टला

किसान आंदोलन को लेकर विपक्ष एकजुट

संसद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस मीटिंग का मुख्य उद्देश्य ये है कि लोकसभा में जारी गतिरोध को किस तरह से तोड़ा जाए। इस दौरान पीएम मोदी अमित शाह और अन्य मंत्रियों के साथ बैठक में इस रणनीति पर मंथन करेंगे, कि आखिर किस तरह से गतिरोध को समाप्त किया जाए।

PM MODI फोटो-सोशल मीडिया

बता दें, कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसान आंदोलन को लेकर विपक्ष एकजुट है। ऐसे में लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण को लेकर धन्यवाद प्रस्ताव पर भी चर्चा होनी है।

ये भी पढ़ें...इन तीन राज्यों को छोड़कर किसान 6 फरवरी को देश भर में करेंगे चक्का जाम

चक्का जाम नहीं

ऐसे में किसान आंदोलन के तहत शनिवार को चक्का जाम निकाला जाने वाला है। लेकिन शुक्रवार को किसान नेताओं ने एक बैठक की है, जिसके बाद ये घोषणा की गई है कि इस अभियान के तहत दिल्ली, यूपी और उत्तराखंड में चक्का जाम नहीं होगा, लेकिन बाकी जगहों पर यह प्रदर्शन होगा।

दूसरी तरफ रिहाना और ग्रेटा थनबर्ग जैसी विदेशी लोगों की टिप्पणियां आने के बाद सरकार ने इसका विरोध किया है और दिल्ली पुलिस ने अंतरराष्ट्रीय साजिश के आरोप में जांच करने के लिए एफआईआर दर्ज की गई है।

ये भी पढ़ें...टिकैत का शानदार अंदाज: बुजुर्ग को उठा लिया कंधे पर, फिर चल दिए आगे की ओर

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Desk Editor

Next Story