×

पटना के आश्रयगृह की संवासिन की इलाज के दौरान मौत, 2 लापता

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 1 Sep 2018 6:58 AM GMT

पटना के आश्रयगृह की संवासिन की इलाज के दौरान मौत, 2 लापता
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

पटना: बिहार की राजधानी पटना के राजीव नगर के आश्रयगृह 'आसरा होम' में एक महिला (संवासिन) की मौत हो गई। वहीं, दो संवासिन लापता बताई जा रही हैं। आश्रय गृह में संवासिनों के गायब होने और मौत होने पर विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधा है।

यह भी पढ़ें: 51 साल की उम्र में हुआ जैनमुनि तरुण सागर का निधन, इन मुद्दों पर दिए थे विवादित बयान

पुलिस के अनुसार, राजीव नगर स्थित नेपाली नगर के आश्रयगृह के एक संवासिन को इलाज के लिए पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) में भर्ती कराया गया था, जहां शुक्रवार की रात उसकी मौत हो गई।

पीएमसीएच के अधीक्षक राजीव रंजन प्रसाद ने शनिवार को बताया,"आश्रय गृह में रहने वाली अनामिका (27) को गुरुवार को गंभीर हालत में अस्पताल लाया गया था। उसे सांस लेने में दिक्कत हो रही थी, साथ ही उसके शरीर में खून की कमी थी। शुक्रवार रात उसकी मौत हो गई।"

यह भी पढ़ें: गोरखपुर यूनिवर्सिटी में चुनाव की हुई घोषणा, मतदान 13 सितंबर को

इस बीच, यहां से दो संवासिन भी गायब हो गई हैं, जिसकी प्राथमिकी राजीव नगर थाना में दर्ज कराई गई है। राजीव नगर के थाना प्रभारी रोहन कुमार ने बताया कि आश्रयगृह संचालक द्वारा दो महिलाओं के लापता होने की शिकायत दर्ज कराई गई है। पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है। उन्होंने कहा कि आश्रयगृह और आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाला जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि अगस्त महीने में इस आश्रयगृह में रहने वाली दो महिलाओं की मौत के बाद यह आश्रयगृह चर्चा में आया था। इन दो संवासिनों की मौत के बाद सरकार ने इस गृह को चलाने की जिम्मेवारी स्वयंसेवी संस्था अनुमाया ह्यूमन रिसोर्स फाउंडेशन से वापस ले ली थी। इस मामले में स्वयंसेवी संस्था की संचालिका मनीषा दयाल और सचिव चितरंजन को गिरफ्तार कर लिया गया था।

इधर, राजद के नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने इस मामले को लेकर सरकार पर निशाना साधा है। तेजस्वी ने शनिवार को ट्वीट कर लिखा,"पटना के आसरा गृह कांड में पांच बड़े रंगीन अधिकारी संलिप्त है। नीतीश जी में नैतिक बल नहीं कि लड़कियों की इज्जत से खिलवाड़ करने वाले ऐसे नैतिक भ्रष्ट अधिकारियों को बर्खास्त कर सकें। अगर उन्होंने ऐसा किया तो ये अधिकारी इनका काला चिट्ठा खोल दुशासनी कुर्सी गंगा में फेंक देंगे। समझें।"

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, "पटना के कुख्यात आसरा आश्रय गृह से दो और लड़कियां गायब। एक की मौत। सुरक्षा बंदोबस्त के बाद कैसे गायब हुई? प्रतीत होता है बेलगाम पुलिस और समाज कल्याण विभाग ने लड़कियों के शोषण और तस्करी का कॉन्ट्रैक्ट लिया हुआ है। चंद दिन पूर्व इसी आसरा गृह की दो युवतियों की संदिग्ध मौत हुई थी।"

--आईएएनएस

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story