×

सेब की तरह गुणकारी होता है बेर, कई बीमारियों में फायदेमंद

seema

seemaBy seema

Published on 23 Feb 2018 7:51 AM GMT

सेब की तरह गुणकारी होता है बेर, कई बीमारियों में फायदेमंद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ : इस मौसम में कई दूसरों फलों के साथ बेर भी लोगों को खूब पसंद आता है। यह काफी गुणकारी फल है। इसके बारे में कहा जाता है कि इस फल में सेव जितने गुण होते हैं। इसीलिए इसे गरीबों की मेवा भी कहा जाता है। आसानी से और सहज उपलब्ध होने के कारण यह फल हर वर्ग में लोकप्रिय होता है। इसकी पत्तियों में कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम, पोटेशियम, सोडियम, क्लोरीन, गंधक इत्यादि तत्व प्रचुर मात्रा में प्राप्त होते हैं। विटामिन सी तथा शर्करा का भी बेर में खजाना होता है। इसकी छाल का उपयोग अतिसार और दस्त में किया जाता है। अगर किसी को उल्टी और गर्भावस्था में पेट दर्द हो रहा हो तो उसको रोकने के लिए बेर का उपयोग किया जाता है। इसका तत्काल लाभ मिलता है।

पका हुआ बेर बहुत मीठा, रसदार और पौष्टिक रहता है। इसका शरबत भी बनाया जाता है। अगर इस मौसम में इसका सेवन सुबह के समय किया जाय तो फायदेमंद रहता है। जानते हैं इसके दूसरे अन्य फायदों के बारे में-

यह भी पढ़ें : शरीर के इन अंगों की सफाई में अपनाएं ये घरेलू नुस्खें, दूर होगा कालापन

  • अगर त्वचा पर कट या घाव होने पर बेर के फल का गूदा निकालकर लगाने से घाव जल्दी भरता है।
  • किसी को फेफड़े सम्बंधी बीमारी हो और बुखार ठीक न हो रहा हो तो इसका जूस बेहद लाभकारी माना जाता है। इसका सेवन करना चाहिए।
  • पेट संबंधी समस्या है तो बेर को नमक और काली मिर्च के साथ खाने से अपच की समस्या दूर होती है।
  • अगर पेट से संबंधी समस्या है तो सूखे हुए बेर खाने से कब्जियत और पेट संबंधित पुरानी से पुरानी बीमारी भी दूर होती है। इसको आजमाना चाहिए।
  • बेर को छाछ के साथ लेने से घबराहट और उलटी होना तथा पेट में दर्द की समस्या में आराम मिलता है।
  • इसकी पत्तियां को तेल के साथ पेस्ट बनाकर शरीर पर लगाने से लीवर सम्बंधी समस्या में लाभ मिलताहै। काफी आराम मिलता है।
  • अस्थमा और दांतों यानी मसूड़ों की समस्या है तो बेर के नियमित सेवन से काफी राहत मिलती है। मसूड़ों में घाव होने पर भी घाव जल्दी भरते हैं।
  • बेर की जड़ों का जूस थोड़ी सी मात्रा में पीने से गठिया और वात जैसी बीमारी को न केवल कम किया जा सकता है, बल्कि बढऩे से भी रोका जा सकता है। अगर किसी को इनमें से किसी के लक्षण दिखाई देते हैं तो इसका सेवन करना चाहिए।
  • बेर का फल खुश्की और थकान को दूर करने की ताकत रखता है। इसके और भी फायदे होते हैं।
  • बेर और नीम के पत्ते पीसकर लगाने से सिर के बाल गिरने कम होते हैं। हेयर की अन्य प्रॉब्लम दूर होती हैं।

seema

seema

सीमा शर्मा लगभग ०६ वर्षों से डिजाइनिंग वर्क कर रही हैं। प्रिटिंग प्रेस में २ वर्ष का अनुभव। 'निष्पक्ष प्रतिदिनÓ हिन्दी दैनिक में दो साल पेज मेकिंग का कार्य किया। श्रीटाइम्स में साप्ताहिक मैगजीन में डिजाइन के पद पर दो साल तक कार्य किया। इसके अलावा जॉब वर्क का अनुभव है।

Next Story