×

अश्विनी चौबे टीम मोदी का हिस्सा, 11 हजार शौचालय बनवाकर आए थे चर्चा में

aman

amanBy aman

Published on 3 Sep 2017 6:11 AM GMT

अश्विनी चौबे टीम मोदी का हिस्सा, 11 हजार शौचालय बनवाकर आए थे चर्चा में
X
अश्विनी चौबे टीम मोदी का हिस्सा, 11 हजार शौचालय बनवाकर आए थे चर्चा में
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: पीएम नरेंद्र मोदी ने आज (3 सितंबर) अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया। मोदी कैबिनेट का यह तीसरा विस्तार है। इस विस्तार में बिहार के बीजेपी सांसद अश्विनी कुमार चौबे को राज्य मंत्री के रूप में शपथ दिलाई गयी।

बता दें, कि ये वही अश्विनी चौबे हैं जिन्होंने 'घर में हो शौचालय का निर्माण, तभी होगा लाडली बिटिया का कन्यादान' नारा देकर शौचालय निर्माण की दिशा में बड़ा कदम उठाया था।

ये भी पढ़ें ...13 मंत्रियों ने ली शपथ, निर्मला-प्रधान-पीयूष-मुख़्तार को मिला प्रमोशन

जेपी आंदोलन के समय से हैं सक्रिय

केंद्रीय मंत्रिपरिषद में किए गए फेरबदल के तहत शामिल किए जाने वाले नए चेहरों में अश्विनी कुमार चौबे का नाम भी शामिल है। चौबे बिहार के बक्सर से लोकसभा सदस्य हैं। वह 1970 के दशक में जेपी आंदोलन में सक्रिय रूप से शामिल थे। उन्हें आपातकाल के दौरान मीसा के तहत हिरासत में लिया गया था। ‘घर-घर में हो शौचालय का निर्माण, तभी होगा लाडली बिटिया का कन्यादान’ का नारा देने का श्रेय भी चौबे को जाता है।

ये भी पढ़ें ...कौन होगा देश का अगला रक्षा मंत्री? इन तीन नाम पर चल रही है चर्चा!

बनवाए 11,000 शौचालय

अश्विनी चौबे ने महादलित परिवारों के लिए 11,000 शौचालय बनाने में भी मदद की। वह ऊर्जा पर संसद की प्राक्लन एवं स्थायी समिति के सदस्य हैं। वह केंद्रीय रेशम बोर्ड के भी सदस्य हैं।

ये भी पढ़ें ...चाय वाले की कैबिनेट में अब साइकिल का पंक्चर बनाने वाला भी शामिल

लगातार 5 बार चुने गए विधायक

भागलपुर के दरियापुर के रहने वाले चौबे बिहार विधानसभा के लिए लगातार पांच बार चुने गए। वह 1995-2014 तक बिहार विधानसभा के सदस्य रहे। बिहार सरकार में आठ साल तक स्वास्थ्य, शहरी विकास और जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी सहित अहम विभागों के पदभार संभाल चुके हैं। छात्र जीवन में वे पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष रह चुके हैं।

aman

aman

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।

Next Story