पीएम मोदी ने चर्चित पत्रकार अरुण शौरी से की मुलाकात, ट्वीट करके कही ये बात

पीएम मोदी ने आज पुणे के रूबी हॉल क्लिनिक अस्पताल में अरुण शौरी (भारतीय जनता पार्टी के पूर्व नेता व प्रख्यात पत्रकार) से मुलाकात की। बता दें कि पीएम मोदी ने इसकी जानकारी खुद ट्वीट करके दी। शौरी को पीएम मोदी का आलोचक माना जाता है।

मुंबई: पीएम मोदी ने आज पुणे के रूबी हॉल क्लिनिक अस्पताल में अरुण शौरी (भारतीय जनता पार्टी के पूर्व नेता व प्रख्यात पत्रकार) से मुलाकात की।

बता दें कि पीएम मोदी ने इसकी जानकारी खुद ट्वीट करके दी। बताया जाता है कि शौरी को पीएम मोदी का आलोचक माना जाता है। उन्होंने राफेल मामले में सुप्रीम कोर्ट में सरकार के खिलाफ याचिका दायक की थी।

दरअसल, पिछले दिनों लवासा में अपने घर के पास 78 वर्षीय अरुण शौरी बेहोश होकर गिर गए थे, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इस दौरान उनके सिर के पीछे चोट लगी थी।

पीएम मोदी ने कहा…

पीएम मोदी ने ट्वीट के माध्यम से कहा कि पुणे में मेरी मुलाकात पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी जी से हुई। उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली और उनके साथ काफी अच्छी बातचीत हुई। हम उनके लंबे और स्वस्थ जीवन के लिए प्रार्थना करते हैं।

रूबी हॉल क्लिनिक में हुए हैं भर्ती…

उन्हें शुरुआत में देर रात हिंजवडी (पुणे के बाहरी इलाके में) के एक अस्पताल में ले जाया गया था। बाद में उन्हें रूबी हॉल क्लिनिक में भर्ती कराया गया। शौरी का इलाज कर रहे एक डॉक्टर के मुताबिक सभी जरूरी जांच हो गई हैं और उनके स्वास्थ्य पर नजर रखी जा रही है। वर्तमान में वे होश में हैं।

राफेल डील को लेकर दायर की याचिका…

बता दें कि राफेल डील में भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करने वालों में शौरी भी थे। शौरी ने प्रशांत भूषण और यशवंत सिन्हा के साथ मिलकर इस मामले में याचिका दायर की थी।

सुप्रीम कोर्ट ने डील को सही बताते इस याचिका को पिछले साल दिसंबर में ही खारिज कर दिया था। इसके इन्होंने पुनर्विचार याचिका दायर की। इस साल नवंबर में पुनर्विचार भी खारिज हो जाने के बाद तीनों ने फैसला सुनाने वाले एक जज जस्टिस केएम जोसेफ के अलग से दिये गए फैसले का हवाला देते हुए इस मामले में सीबीआइ जांच की मांग की थी।

रेमोन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित…

शौरी एक लेखक और रेमोन मैग्सेसे पुरस्कार विजेता हैं। उन्होंने 1967-1978 के दौरान विश्व बैंक के साथ एक अर्थशास्त्री के रूप में भी काम किया। शौरी ने पत्रकारिता में अपने दशकों लंबे करियर के दौरान ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के संपादक का पद संभाला। भाजपा के पूर्व राज्यसभा सदस्य, शौरी 1999-2004 के दौरान अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली सरकार में केंद्रीय मंत्री थे।