पीएनबी स्कैम के आरोपी नीरव मोदी ने दी आत्महत्या की धमकी, यहां जानें क्यों?

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के 9100 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी केस के मुख्य आरोपी और हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने धमकी दी है कि अगर उसे प्रत्यर्पित कर भारत भेजा गया तो वह आत्महत्या कर लेगा।

Published by Aditya Mishra Published: November 7, 2019 | 11:58 am
Modified: November 7, 2019 | 12:02 pm

नई दिल्ली: पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) के 9100 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी केस के मुख्य आरोपी और हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने धमकी दी है कि अगर उसे प्रत्यर्पित कर भारत भेजा गया तो वह आत्महत्या कर लेगा।

बुधवार को लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट में मोदी की पेशी हुई थी। कोर्ट में ही नीरव मोदी ने अपना आपा खोते हुए कहा कि अगर उसे भारत भेजा गया तो वह खुदकुशी कर लेगा।

इसका कोर्ट पर कोई असर नहीं पड़ा और कोर्ट ने पांचवीं बार उसकी जमानत याचिका खारिज कर दी। इस दौरान नीरव मोदी के वकील कीथ क्यूसी ने अदालत में दावा किया कि उसके मुवक्किल को वेंड्सवर्थ जेल में दो बार पीटा गया है।

ये भी पढ़ें…आयकर विभाग ने भगोड़े नीरव मोदी की 68 में 55 पेंटिंग्स की नीलामी की

पांचवीं बार खारिज हुई नीरव की जमानत अर्जी

नीरव की जमानत अर्जी बुधवार को पांचवीं बार खारिज हुई। जज एम्मा अबर्थनॉट ने कहा कि पिछली बातें भविष्य में संभावित घटनाओं का संकेत देती हैं। यह नहीं मान सकते कि नीरव गवाहों को प्रभावित नहीं करेगा और अगले साल मई में होने वाली ट्रायल के वक्त पेश हो जाएगा। उसका डिप्रेशन में होना जमानत खारिज करने के पिछले आदेशों को प्रभावित नहीं कर सकता।

जज ने नीरव की जमानत अर्जी में उसकी मानसिक स्थिति का जिक्र होने की बात भारतीय मीडिया में लीक होने को गंभीर और खराब बताया। उन्होंने कहा कि गोपनीय मेडिकल रिपोर्ट लीक होना दुर्भाग्यपूर्ण है। इससे भारत सरकार के प्रति कोर्ट का भरोसा कम होगा।

नीरव के वकीलों ने भारतीय जांच एजेंसियों पर जानकारी लीक करने का आरोप लगाया था। इस पर भारतीय पक्ष के वकील जेम्स लेविस ने कहा कि मेडिकल रिपोर्ट के तथ्य लीक होना अफसोसजनक है, लेकिन यह भारतीय पक्ष की ओर से नहीं हुआ।

ये भी पढ़ें…भगोड़े नीरव मोदी के लंदन में रहने की खबर को लेकर कांग्रेस ने PM पर निशाना साधा

नीरव के यूके से भागने की बनी हुई है आशंका

लेविस ने नीरव की जमानत याचिका को चुनौती देते हुए दलील रखी कि पिछली बार की अर्जियों के वक्त जो हालात थे, उनमें अब भी कोई बदलाव नहीं है। जमानत मिलने पर नीरव के यूके से भागने की आशंका बनी हुई है।

नीरव ने वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में 30 अक्टूबर को चौथी बार जमानत अर्जी दाखिल की थी। उसने बेचैनी और निराशा में होने की बात कही थी।

नीरव की जमानत याचिका यूके हाईकोर्ट से भी खारिज हो चुकी है। वह 7 महीने से लंदन की वांड्सवर्थ जेल में है। भारत की अपील पर प्रत्यर्पण वारंट जारी होने के बाद लंदन पुलिस ने 19 मार्च को उसे गिरफ्तार किया था। अगली पेशी 4 दिसंबर को वीडियोलिंक के जरिए होगी।

ये भी पढ़ें…मोदी सरकार की बड़ी जीत, स्विट्जरलैंड सरकार ने की नीरव मोदी पर बड़ी कार्रवाई

 

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App